हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य हुए कोरोना संक्रमित, कोरोना से पूर्व कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश जैन व पूर्व उपराज्यपाल चंद्रावती का निधन

हरियाणा के गवर्नर सत्यदेव नारायण आर्य को कोरोना संक्रमित पाए जाने पर फोर्टिस अस्पताल में भर्ती कराया गया है। प्रदेश के पूर्व कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश जैन का भी कोरोना संक्रमण होने से निधन हो गया है। पूर्व मुख्यमंत्री बंशीलाल को 1977 में रिकार्ड 2 लाख 89 हजार 135 वोट हासिल करके हराने वाली चंद्रावती का भी कोरोना से देहांत।

हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य हुए कोरोना संक्रमित, कोरोना से पूर्व कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश जैन व पूर्व उपराज्यपाल चंद्रावती का निधन

हरियाणा के गवर्नर सत्यदेव नारायण आर्य कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। उन्हें फोर्टिस अस्पताल मोहाली में भर्ती कराया गया है। चिकित्सकों की पूरी टीम उनकी देखरेख में जुटी है। साथ ही उनके संपर्क में आने वाले लोगों की पहचान करके उन्हें होम क्वारंटीन करने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

बता दें कि इससे पहले सोमवार को पानीपत निवासी 72 साल के पूर्व मंत्री ओम प्रकाश जैन का कोरोना संक्रमण होने से निधन हो गया है। दिल्‍ली के अस्‍पताल में उन्‍होंने आखिरी सांस ली। कुछ दिन पहले उनकी तबीयत खराब हुई थी तो उन्होंने कोरोना जांच कराई थी, जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। बीते दिन तबीयत बिगड़ने पर उन्हें दिल्ली रेफर किया गया था, जहां सोमवार सुबह उनका देहांत हो गया। ओम प्रकाश जैन हरियाणा की राजनीति का जाना माना चेहरा थे। वह दो बार मंत्री पद पर रहे। 1996 में बंसीलाल सरकार में और 2009 में हुड्डा सरकार में वह मंत्री बने। करानाल के कंबोपुरा गांव के पूर्व सरपंच की मौत मामले में उनका नाम आया था, जिस वजह से उन्हें मंत्री पद से इस्‍तीफा देना पड़ा था। उन्‍होंने 2014 का चुनाव नहीं लड़ा। हालांकि 2019 में फिर से सक्रिय हुए और पानीपत ग्रामीण से चुनाव लड़ा, लेकिन जीत नहीं सके। ओम प्रकाश जैन अपने राजनीतिक सफर में दो बार जाटल गांव के सरपंच भी बने। हरियाणा हरको बैंक के चेयरमैन भी रहे।

पुडुचेरी की पूर्व उपराज्‍यपाल चंद्रावती का देहांत

हरियाणा की वरिष्‍ठ नेता और पुडुचेरी की पूर्व उपराज्‍यपाल चंद्रावती का 92 साल में देहांत हो गया है। रविवार सुबह रोहतक PGI में उन्होंने अंतिम सांस ली। रविवार को ही उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया।

हालांकि वे काफी समय से वे बीमार चल रही थीं, लेकिन उनका निधन कोरोना संक्रमण होने से हुआ। इसलिए अंतिम संस्कार की सभी क्रियाएं अस्पताल की तरफ से पूरी की गईं। परिजनों को अंतिम संस्कार से दूर ही रखा गया। वहीं चंद्रावती के निधन पर विभिन्‍न राजनीतिक दलों के नेताओं ने शोक जताया है। चंद्रावती हरियाणा की राजनीति का एक जाना-माना नाम थीं। प्रदेश की राजनीति में कई दशकों तक उनका दबदबा रहा। उन्होंने अपने जीवनकाल में 14 चुनाव लड़े। वह कई मह्त्वपूर्ण पदों पर रहीं, लेकिन मुख्यमंत्री बनने की चाह उनके मन में ही रह गई और इस अधूरी इच्छा के साथ वे दुनिया को अलविदा कह गईं।

चंद्रावती हरियाणा की पहली महिला सांसद थीं। वह 1977 में भिवानी लोकसभा क्षेत्र से सांसद बनीं थीं। हरियाणा विधानसभा की पहली विधायक भी बनी थीं। दो बार मंत्री भी बनीं। पहली बार 1964 में और 1966 तक पद पर रहीं। इसके 1972 से 1974 तक मंत्री रहीं। चंद्रावती 1982 से 1985 तक हरियाणा विधानसभा में नेता विपक्ष भी रहीं। 1990 में उन्हें पुडुचेरी का उपराज्‍यपाल बनाया गया था। फरवरी 1990 से दिसंबर 1990 तक वे इस पद पर रहीं। 1977 में वे हरियाणा में जनता पार्टी की अध्‍यक्ष भी रहीं और इस पद पर 1879 पर रहीं।

चंद्रावती अपने क्षेत्र में ग्रेजुएशन करने वाली पहली महिला थीं। इसके साथ ही वह पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट की पहली महिला वकील भी थीं। 3 सितंबर 1928 को दादरी के गांव डालावास में उनका जन्म हुआ था और उन्होंने पंजाब के संगरूर जिले से स्नातक की थी। दिल्ली विश्वविद्यालय से एलएलबी की थी। चंद्रावती ने भिवानी लोकसभा क्षेत्र के पहले चुनाव में 67.62 प्रतिशत वोट हासिल करके रिकार्ड बनाया था, जिसे आज तक कोई नहीं तोड़ सका है। रिकार्ड के मुताबिक, 1977 में चंद्रावती ने 2 लाख 89 हजार 135 वोट हासिल करके पूर्व मुख्यमंत्री बंशीलाल को हराया था।

राज्य में डराने लगी हैं मौतें

राज्य में पिछले दो दिनों में कोरोना के 5170 नए मरीज सामने आए। इसके साथ संक्रमितों का आंकड़ा दो लाख पार कर गया है। शनिवार-रविवार को मिलाकर कुल मरीजों की संख्या 200302 हो गई, जबकि 3917 नए लाेग ठीक हुए। अब तक स्वस्थ होकर 178298 मरीज घर जा चुके हैं। चिंता की बात यह है कि एक्टिव मरीज 19967 हो गए हैं।

इधर, मौतें फिर डराने लगी हैं। भिवानी में सबसे ज्यादा पांच तो फरीदाबाद में चार लोगों की मौत हो गई। 19 नए लोगों के साथ ही अब तक 2037 लोग कोरोना से जान गंवा चुके हैं। दो दिनों में सबसे ज्यादा 1264 संक्रमित सिर्फ फरीदाबाद में सामने आए हैं। राहत की बात यह है कि नूहं और चरखीदादरी में क्रमश: 6 और 7 लोगों की ही रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। 12 जिलों में किसी की मौत नहीं हुई है।