डेढ़ साल तक पत्नी को टॉयलेट में बंद रखकर करता रहा टॉर्चर, पुलिस ने रेस्क्यू कर बाहर निकाला

पानीपत के सनौली जिले के रिशपुर गांव में एक 35 साल की महिला रामरति को उसके पति नरेश ने पिछले डेढ़ साल से टॉयलेट में बंद कर रखा था। इतना ही नहीं उसका पति दिन में एक ही बार उसे भोजन दिया करता था और ना ही उसको बाहर निकलने देता था।

डेढ़ साल तक पत्नी को टॉयलेट में बंद रखकर करता रहा टॉर्चर, पुलिस ने रेस्क्यू कर बाहर निकाला
नारी शोषण
हरियाणा के पानीपत में एक पति ने अपनी पत्नी को पिछले डेढ़ साल से टॉयलेट में बंद रख रखा था। और जब महिला संरक्षण अधिकारी की सहायता से उसे बाहर निकाला गया तो उसने खाने के लिए रोटी मांगी। इतना ही नहीं, बेबसी और ज्यादती की यह कहानी जिसने भी सुनी, उसके होश उड़ गए। 
बता दें कि पानीपत के सनौली जिले के रिशपुर गांव में एक 35 साल की महिला रामरति को उसके पति नरेश ने पिछले डेढ़ साल से टॉयलेट में बंद कर रखा था। इतना ही नहीं उसका पति दिन में एक ही बार उसे भोजन दिया करता था और ना ही उसको बाहर निकलने देता था। ऐसे में अज्ञात व्यक्ति के द्वारा सूचना मिलने पर महिला संरक्षण अधिकारी रजनी गुप्ता पुलिस टीम के साथ महिला को बचाने के लिए गईं। जहां रेस्क्यू कर महिला को टॉयलेट से बाहर निकला गया। जिसके बाद पीड़ित महिला ने सबसे पहले खाने के लिए रोटी मांगी। और श्रृंगार का सामान मांगा। तो वहीं रामरति के पति नरेश की मानें तो रामरति अपने पिता और भाई की मौत के बाद मानसिक रूप से तनाव में आ गई थी। ऐसे में वह किसी को नुकसान ना पहुंचा पाए, इसके लिए उसने उसे बंद कर दिया था। लेकिन रामरति ने बंधनमुक्त होते ही अपने तीन बच्चों समेत आस पड़ोस के सभी लोगों को पहचान लिया। जिससे पुलिस यह मान रही है कि रामरति मानसिक रोगी नहीं है। हालांकि सख्ती से पूछताछ के बाद नरेश ही महिला अधिकारी को रामरति के पास ले गया था। लेकिन पड़ोसियों के अनुसार, नरेश अपनी पत्नी रामरति से हमेशा मारपीट करता था। ऐसे में पुलिस ने महिला के पति नरेश को धारा 498 ए और 342 के तहत गिरफ्तार कर लिया है। साथ ही  पीड़ित महिला को सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाया गया है, अब पुलिस महिला की मानसिक स्थिति संबंधी रिपोर्ट आने का इंतजार कर रही हैं। ताकि इस मामले में आगे की कार्रवाई की जा सके।