साइबर ठगों से सावधान रहें पेंशनधारक :- उपायुक्त कैप्टन मनोज कुमार -कहा, जीवन प्…


साइबर ठगों से सावधान रहें पेंशनधारक :- उपायुक्त कैप्टन मनोज कुमार
-कहा, जीवन प्रमाण पत्र ऑनलाइन अपडेट करने के नाम पर हो सकती है धोखाधड़ी
-पेंशन निदेशालय जीवन प्रमाण पत्र ऑनलाइन नहीं करता अपडेट
-पेंशनभोगी व्यक्तिगत रूप से निदेशालय जाकर जीवन प्रमाण पत्र को करवाएं अपडेट
रोहतक, 24 अक्टूबर :- उपायुक्त कैप्टन मनोज कुमार ने पेंशन भोगियों को आगह करते हुए कहा है कि वे साइबर ठगों से सावधान रहें। उन्होंने कहा कि जीवन प्रमाण पत्र ऑनलाइन अपडेट करने के नाम पर ठगी की जा सकती है। इसलिए पेंशन भोगियों को अलर्ट रहने की जरूरत है।
कैप्टन मनोज कुमार ने स्पष्ट किया कि पेंशन निदेशालय कभी भी किसी पेंशन धारक को उनका जीवन प्रमाण पत्र ऑनलाइन अपडेट करने के लिए कॉल नहीं करता है और न ही जीवन प्रमाण पत्र ऑनलाइन अपडेट किया जाता है। उन्होंने कहा कि पेंशन धारक का यह कर्तव्य है कि वह अपने जीवन प्रमाण पत्र को व्यक्तिगत रूप से पेंशन निदेशालय में जाकर अपडेट करवाएं और साइबर अपराधियों से बचें।
कैप्टन मनोज कुमार ने कहा कि साइबर अपराधियों द्वारा पेंशन धारकों को जीवन प्रमाण पत्र ऑनलाइन अपडेट करने के लिए कॉल किया जाता है। इन ठगों के पास पेंशन धारकों का पूरा डाटा जैसे नियुक्ति व सेवानिवृत्ति की तिथि, पीपीओ नंबर (पेंशनभोगी भुगतान आदेश संख्या), आधार कार्ड संख्या, स्थाई पता, ईमेल आईडी, सेवानिवृत्ति पर प्राप्त राशि, मासिक पेंशन व नॉमिनी आदि की जानकारी होती है। उन्होंने कहा कि साइबर ठग उपरोक्त पूरी जानकारी व डाटा के साथ कॉल करते हैं ताकि पेंशन धारक को यह पूरा विश्वास हो जाए कि वे पेंशन निदेशालय से ही कॉल कर रहे हैं।
उन्होंने कहा कि साइबर ठग पेंशन धारकों को पूरा डाटा बताते हुए उनका जीवन प्रमाण पत्र अपडेट करने हेतु ओटीपी साझा करने के लिए कहते हैं। अगर पेंशन धारक फोन पर आए हुए ओटीपी को साझा कर देता है तो जालसाज जो को पेंशन धारक के बैंक खाते का सीधा एक्सेस कंट्रोल मिल जाता है। इसके पश्चात वे पेंशन धारक के खाते में जमा समस्त राशि को तुरंत दूसरे फर्जी बैंक खातों या वॉलेट में स्थानांतरित कर देते हैं। इसलिए पेंशन धारकों को जागरूक व सावधान रहने की जरूरत है।
0 0 00 0 00 00 0 0 0




Source

Leave a Comment