एमएसपी पर सर्वाधिक फसलें खरीदने वाला हरियाणा देश का पहला राज्य :- कृषि मंत्री जे…


एमएसपी पर सर्वाधिक फसलें खरीदने वाला हरियाणा देश का पहला राज्य :- कृषि मंत्री जेपी दलाल
– भुगतान में देरी पर ब्याज देने का प्रावधान
– हर हाल में किसानों को किया जाएगा जोखिम मुक्त
– धरातल पर लागू की गई कई किसान हितैषी योजनाएं
– किसान की आमदनी बढ़ाने के लिए विविधिकरण पर फोकस
– झींगा पालन के लिए सब्सीडी व निशुल्क प्रशिक्षण
– सरकार की ऑन लाइन ट्रांसफर नीति बनी रोल मॉडल
– गरीब परिवारों को चिन्हित करके बढ़ाई जाएगी आमदनी
– सभी वर्गो को लाभ देने के लिए बनाई नई व्यवस्था
– किसानों व सरकार के बीच नहीं कोई झगड़ा
– किसानों के नाम पर हारे हुए लोग कर रहे है कुर्सी हथियाने का प्रयास
– चीन के समर्थक है लाल झण्डा वाले लोग
– सत्ता को लेकर कांग्रेस पर भी साधा निशाना
– पराली प्रबंधन के लिए दी अढ़ाई सौ करोड़ की सब्सीडी
रोहतक, 16 अक्टूबर : हरियाणा के कृषि मंत्री जेपी दलाल ने कहा है कि प्रदेश के किसानों को जोखिम मुक्त करने के उद्देश्य से भाजपा की राज्य सरकार ने धरातल पर अनेक योजनाओं को क्रियान्वित किया है। सरकार का मकसद यही है कि किसी भी प्रकार से किसानों की आमदनी को बढ़ाया जा सके।
कृषि मंत्री आज सिंचाई विश्राम गृह में मुख्यमंत्री मनोहर लाल के नेतृत्व वाली राज्य सरकार के 26 अक्टूबर को 7 वर्ष पूरा होने के उपलक्ष में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने सात साल सात कमाल स्लोगन के तहत सरकार की उपलब्धियों पर विस्तार से विवरण दिया। कृषि मंत्री ने कहा कि वर्ष 2016 में लागू की गई प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना किसानों के लिए लाभकारी साबित हो रही है। उन्होंने कहा कि यह योजना वैकल्पिक होने के बावजूद भी लगातार इसमें संख्या बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि योजना के तहत अब तक किसानों को 4 हजार करोड़ रुपए का मुआवजा दिया जा चुका है। इसी प्रकार से पशुधन क्रेडिट योजना के तहत लगभग 800 करोड़ रुपए की क्षतिपूर्ति राशि पशुपालकों की की जा चुकी है। उन्होंने कहा कि हरियाणा देश का पहला ऐसा राज्य है, जहां पशुपालकों को इस योजना के तहत सर्वाधिक लाभ मिला है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि नई योजना के तहत बागवानी के क्षेत्र में 40 हजार तक का बीमा किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पिछले दिनों बारिश की वजह से कुछ क्षेत्रों में फसलों को नुकसान पहुंचा है, सरकार ने इस का स्वत संज्ञान लिया है और स्पेशल गिरदावरी करवाई जा रही है।
कृषि मंत्री ने कहा कि हरियाणा देश का पहला ऐसा राज्य है जहां 11 फसलें न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदी जा रही है। फसलों के भुगतान की समय सीमा 72 घंटे निर्धारित की गई है। अगर इस सीमा में भुगतान नहीं होता तो ब्याज देने का प्रावधान किया गया है। उन्होंने बताया कि पिछले सीजन में किसानों को एक करोड़ से ज्यादा का ब्याज दिया गया है। गन्नौर सोनीपत में एशिया की सबसे बड़ी मंडी का निर्माण किया जा रहा है। यह दिल्ली की आजादपुर मंडी से तीन-चार गुना बड़ी होगी और इसकी कनेक्टिविटी भी चारों ओर से होगी, जिसका सीधा लाभ किसानों को मिलेगा। किसानों को अपनी फसल बेचने के लिए कोई परेशानी नहीं होगी। उन्होंने कहा कि सेरसा (सोनीपत) में मसाला की मंडी तथा पिंजौर में सेबों की मंडी स्थापित की जा रही है। इसी प्रकार से गुडग़ांव में फूलों की मंडी बनाई जा रही है।
कृषि मंत्री जेपी दलाल ने कहा कि किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए सरकार फसल विविधीकरण पर विशेष फोकस कर रही है और इसके लिए किसानों को प्रोत्साहन भी दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि खारे पानी के क्षेत्र में झींगा का उत्पादन करके आय को बढ़ाया जा सकता है। इसके लिए निशुल्क प्रशिक्षण का प्रावधान किया गया है और 8 से 9 लाख रुपये तक की सब्सिडी भी देने का प्रावधान किया गया है। इसके साथ ही शहद पर भी सब्सिडी देने का प्रावधान सरकार ने किया है। एक सौ डिब्बों के शहद उत्पादन पर ढाई से 3 लाख रुपये की वार्षिक आमदनी की जा सकती है। उन्होंने कहा कि बेहतर जल प्रबंधन की दिशा में भी सरकार ने ठोस कदम उठाए हैं। धान के स्थान पर वैकल्पिक फसल का उत्पादन करने पर संबंधित किसान को 7 हजार रुपये प्रति एकड़ की प्रोत्साहन राशि देने का प्रावधान किया गया है। सूक्ष्म सिंचाई पर भी 85 प्रतिशत की सब्सिडी सरकार द्वारा दी जा रही है।
कृषि मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार की ऑनलाइन ट्रांसफर पॉलिसी अन्य राज्यों के लिए रोल मॉडल बन चुकी है। अब नौकरियां पर्ची के आधार पर नहीं बल्कि मेरिट के आधार पर मिल रही है। उन्होंने कहा कि गरीब कल्याण के लिए भी राज्य सरकार ने योजनाओं को क्रियान्वित किया है। इसी दिशा में परिवार पहचान पत्र बनाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि पहले चरण में एक लाख ऐसे परिवारों को चिन्हित किया जाएगा, जिनकी आमदनी एक लाख 80 हजार रुपये से कम है। ऐसे सभी परिवारों से संपर्क करके उन्हें स्वरोजगार उपलब्ध करवाया जाएगा ताकि उनका जीवन स्तर ऊपर उठ सके। इसी कड़ी में हर गांव में हर हित स्टोर स्थापित किए जा रहे हैं। इनका लाभ भी चिन्हित परिवारों को मिलेगा। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि समाज के विभिन्न वर्गों को सामाजिक सुरक्षा पेंशन उपलब्ध करवाई जा रही है।
हरियाणा की खेल नीति का जिक्र करते हुए कृषि मंत्री ने कहा कि यह खेल नीति का ही परिणाम है कि देश को प्राप्त होने वाले कुल मेडल में से हरियाणा का प्रतिशत अधिक रहता है। उन्होंने कहा कि पहले प्रभावशाली लोग सरकार की विभिन्न योजनाओं का लाभ उठाते थे, लेकिन मौजूदा सरकार ने ऐसी व्यवस्था की है जिसके तहत सभी को बराबर लाभ मिल रहा है। कृषि मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल के नेतृत्व में राज्य सरकार हरियाणा एक-हरियाणवी एक तथा सबका साथ-सबका विकास व सबका विश्वास के आधार पर प्रदेश को आगे ले जाने का काम कर रही है।
पत्रकारों के सवालों के जवाब देते हुए कृषि मंत्री जेपी दलाल ने स्पष्ट किया कि सरकार व किसानों के बीच कोई लड़ाई नहीं है, बल्कि जो लोग चुनाव हारे हुए हैं वहीं किसानों के नाम पर कुर्सी हथियाने का प्रयास कर रहे हैं और वही टोल प्लाजा पर धरने पर बैठे हुए हैं। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि जब किसानों को यह पता चल जाएगा कि लाल झंडे वाले चीन के समर्थक हैं तो किसान उनसे अपना नाता तोड़ लेंगे। एक अन्य सवाल के जवाब में उन्होंने यह भी कहा कि कांग्रेस सदैव यह समझती है कि सत्ता में रहने का केवल उसी का अधिकार है। मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार पराली प्रबंधन के उद्देश्य से विभिन्न कृषि यंत्र खरीदने के लिए किसानों को ढाई सौ करोड रुपए की सब्सिडी दे चुकी है। उन्होंने कहा कि जो किसान पराली नहीं जलाते उसे एक हजार की सब्सिडी देने का प्रावधान किया गया है। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि पानीपत में एथलॉन प्लांट स्थापित किया जा रहा है, जिसमें कई जिलों की पराली का प्रयोग किया जाएगा।
जिला अध्यक्ष अजय बंसल, प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य शमशेर खरकड़ा, सतीश नांदल, पूर्व विधायक सरिता नारायण, प्रदेश मीडिया सह प्रमुख शमशेर सिंह खरक, जिला महामंत्री सतीश आहूजा व राजेश भालोट, जिला उपाध्यक्ष आशा शर्मा, किसान मोर्चा के जिला अध्यक्ष राजकुमार सुनारियां, युवा मोर्चा के जिला अध्यक्ष नवीन ढुल, अल्पसंख्यक मोर्चा के जिलाध्यक्ष कुलविंदर सिंह सिक्का, मंडल अध्यक्ष अशोक सहगल, राजीव बांकर, जय भगवान जांगड़ा, संजय वर्मा व तिलक राज खेड़ा आदि उपस्थित थे।
फोटो : 01 से 06
0 0 0 0 0 0 0 0 00 0








Source

Leave a Comment