लैंगिग समानता बारे आमजन को किया जाएगा जागरूक :- प्राधिकरण के चेयरमैन राकेश कुमार…


लैंगिग समानता बारे आमजन को किया जाएगा जागरूक :- प्राधिकरण के चेयरमैन राकेश कुमार
– लैंगिग समानता व मध्यस्थता पर एनीमेटिड क्लिप व रेडियो जिंगल लाँच
– कानूनी सेवाओं की अवधारणा बारे लोगों को करना होगा जागरूक
– प्राधिकरण द्वारा तैयार की गई विस्तृत कार्य योजना
रोहतक, 15 अक्टूबर : जिला एवं सत्र न्यायाधीश एवं जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण के चेयरमैन राकेश कुमार यादव तथा सीजेएम एवं प्राधिकरण के सचिव खत्री सौरभ ने बताया कि हरियाणा राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण में लैंगिक समानता पर एनीमेटेड क्लिप और मध्यस्थता पर एक रेडियो जिंगल लॉन्च किया है। उन्होंने बताया कि एनिमेटेड क्लिप वीडियो जिंगल जिला के सभी कानूनी जागरूकता शिविर, सेवा शिविर, स्कूलों, कॉलेजो तथा अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉम्र्स पर चलाया जाएगा ताकि अधिक से अधिक लोगों को उनके कानूनी अधिकारों की जानकारी मिल सके।
प्राधिकरण के चेयरमैन राकेश कुमार यादव व सचिव खत्री सौरभ ने बताया कि आजादी का अमृत महोत्सव के तहत प्रदेश के सभी जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट एवं सचिवगण के साथ आयोजित एक दिवसीय परामर्श कार्यक्रम में उपरोक्त निर्णय लिया गया है। उन्होंने बताया कि परामर्श कार्यक्रम में राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण के दिशा-निर्देशों के अनुसार आजादी का अमृत महोत्सव के तहत विभिन्न गतिविधियों के लिए सभी गांव को कवर करने की प्रभावी रणनीति पर चर्चा की गई है।
प्राधिकरण के चेयरमैन राकेश कुमार यादव व सचिव खत्री सौरभ ने बताया कि कार्यक्रम में पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय के न्यायाधीश एवं हरियाणा राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के कार्यकारी अध्यक्ष न्यायमूर्ति राजन गुप्ता ने निर्देश देते हुए कहा कि कानूनी सेवा प्राधिकरणों का काम केवल कानूनी सहायता प्रदान करने तक ही सीमित नहीं है, बल्कि कानूनी सेवाओं की अवधारणा के बारे में लोगों में जागरूकता पैदा करना भी है। समाज में रहने वाले बहुत से लोग अभी भी कानूनी सेवा प्राधिकरणों के कामकाज से अन्जान हैं, खासकर वे जो राज्य के दूरदराज और आंतरिक हिस्सों में रह रहे हैं। उन्होंने आगे कहा है कि व्यक्तियों तक पहुंचने और हर संभव तरीके से उनकी मदद करने के लिए अखिल भारतीय कानूनी जागरूकता और आउटरीच अभियान के माध्यम से कानूनी सेवा संस्थानों को यह सबसे अच्छा मंच दिया गया है। उन्होंने टैक्नोलॉजी के उपयोग पर भी जोर दिया जो आज की दुनिया में अधिकतम लोगों तक पहुंचने के लिए महत्वपूर्ण हैं।
उन्होंने बताया कि इस सम्बन्ध में हालसा द्वारा एक विस्तृत कार्य योजना तैयार की गयी है, जिसमें मेगा और माईक्रो सर्विस डिलीवरी कैंप, कानूनी जागरूकता/कानूनी सहायता शिविर, महत्वपूर्ण दिनों पर विशेष अभियान, हाईब्रिड मोड के माध्यम से तत्काल कानूनी सहायता शिविर, मेलों में कानूनी सहायता स्टॉलों, स्कूलों/कॉलेजों में प्रदर्शनी, प्रतियोगिताएं, मोबाइल वैन के माध्यम से जागरूकता, घर-घर अभियान और कई अन्य गतिविधियों के माध्यम से पूरे अभियान में की जाने वालीे विभिन्न गतिविधियों की गणना की गई है।
0 0 0 0 0 0 0 0 0 0 0 0 0


Source

Leave a Comment