‘एमएसपी से कम दर पर खरीद को बर्दाश्त नहीं करेगी सरकार’ कैथल जिला में धान को न्य…


‘एमएसपी से कम दर पर खरीद को बर्दाश्त नहीं करेगी सरकार’

कैथल जिला में धान को न्यूनतम समर्थन मूल्य से कम पर खरीदने के कुछ मामलों पर कड़ा संज्ञान लेते हुए महिला एवं बाल विकास मंत्री कमलेश ढांडा ने कहा कि ऐसी स्थिति को किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने मामले की गम्भीरता को देखते हुए डीसी प्रदीप दहिया से फोन पर चर्चा की तथा सभी पक्षों के साथ बैठक कर शीघ्र समाधान निकालने के निर्देश दिए।

दरअसल कैथल जिला में कुछ लोगों द्वारा न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) से 100 रुपये से लेकर 125 रुपये तक कम में खरीद करने की अनियमितता की शिकायतें सामने आ रही थीं। महिला एवं बाल विकास मंत्री कमलेश ढांडा ने इन्हें गम्भीरता से लिया और डीसी प्रदीप दहिया से पूरे धान खरीद पर चर्चा की तथा जल्द ही विभागीय अधिकारियों, मिलर्स और आढ़तियों के साथ एक बैठक करके ऐसी स्थिति दुबारा उत्पन्न नहीं होने देने के निर्देश दिए।

उन्होंने कहा कि अब खेत से मंडी तक फसल लेकर पहुंचे किसान की फसल को सरकार द्वारा तय दर नहीं देना उनकी मेहनत के साथ खिलवाड़ है। इसे किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने डीसी प्रदीप दहिया को स्पष्ट किया कि अधिकारियों को ऐसी स्थिति न बनने देने के निर्देश दिए जाएं, क्योंकि दोबारा ऐसी किसी भी शिकायत के मिलने पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

महिला एवं बाल विकास मंत्री कमलेश ढांडा ने कहा कि खुद मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल प्रशासनिक अधिकारियों के साथ निरन्तर संवाद करते हुए धान खरीद, खरीदी गई धान के उठान और खाद उपलब्धता को लेकर दिशा-निर्देश दे रहे हैं। इसलिए प्रशासनिक अधिकारी एवं धान खरीद प्रक्रिया से जुड़े सभी अधिकारी एवं कर्मचारी जिम्मेदारी के साथ अपना दायित्व निभाएं। उन्होंने कहा कि सरकार निरन्तर किसान भाइयों को आर्थिक तौर पर मजबूत करने के लिए प्रयासरत है, ऐसे में उन्हें हतोत्साहित करने वालों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

शनिवार से शुरू होगी स्पेशल गिरदावरी

महिला एवं बाल विकास मंत्री कमलेश ढांडा ने कहा कि शनिवार से कैथल में बारिश के कारण खराब हुई फसल की स्पेशल गिरदावरी शुरू की जा रही है, इसके लिए अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दे दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि विगत सप्ताह में ढुंडवा, कोलेखां, खेड़ी लाम्बा, कुराड़, दुब्बल, सिनंद, हरिपुरा, मटौर, खरक पांडवा, बढसिकरी आदि गांवों के ग्रामीणों ने उनसे मुलाकात करके बारिश के कारण हुए नुकसान को लेकर स्पेशल गिरदावरी की मांग की थी, जिसके लिए उन्हें भरोसा दिया गया था। इसके लिए आला अधिकारियों से चर्चा की गई और अब जिलेभर में स्पेशल गिरदावरी शनिवार से शुरू हो रही है।


Source

Leave a Comment