हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने जलभराव वाले क्षेत्रों में से पानी की नि…


हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने जलभराव वाले क्षेत्रों में से पानी की निकासी जल्द से जल्द करने के निर्देश दिए हैं ताकि किसान समय से अगली फसल की बिजाई कर सकें। मुख्यमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से समीक्षा बैठक में उपायुक्तों को यह कार्य तय समय सीमा में पूरा करने के लिए कहा। इसके साथ-साथ मुख्यमंत्री ने खाद की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करवाने के भी निर्देश दिए। इस दौरान उपमुख्यमंत्री श्री दुष्यंत चौटाला एवं कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री जेपी दलाल भी बैठक में मौजूद रहे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जल निकासी के लिए आवश्यकता हो तो और पंपों की व्यवस्था करें ताकि समय से खेतों में से पानी निकाला जा सके। जल निकासी के बाद पानी ड्रेन में डालने की बजाए रिचार्जिंग के लिए इस्तेमाल किया जाए, इससे जलस्तर में भी सुधार होगा। मुख्यमंत्री ने जिला उपायुक्तों को कहा कि विभागों, निगमों, सोसाइटी एवं कमेटियों की बैठक निर्धारित समय अवधि में नियमित रूप से करें। साथ ही उन्होंने पराली जलाने की घटनाओं की फिजिकल वैरिफिकेशन करके प्रतिदिन रिपोर्ट भेजने के निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जल निकासी के लिए इलेक्ट्रिक पंपों का इस्तेमाल किया जाए। इसके साथ ही उन्होंने इसके लिए बिजली विभाग को प्राथमिकता के आधार पर कनेक्शन देने और 24 घंटे बिजली आपूर्ति सुनिश्चित करने के निर्देश दिए ताकि निर्धारित समय अवधि में जल निकासी हो सके। बैठक में बताया गया कि कुछ क्षेत्रों में किसानों को आ रही दिक्कतों को देखते हुए मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पोर्टल को खोला गया है। इस पोर्टल पर किसान 17 अक्टूबर तक रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं।

मुख्यमंत्री ने उपायुक्तों को निर्देश दिए कि धान खरीद के दौरान किसानों को किसी तरह की कोई समस्या न आए। इसके साथ-साथ उन्होंने मंडियों में बारदाना, लिफ्टिंग और लेबर आदि की कोई समस्या न आना सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने बाजरे की फसल पर दी जाने वाली भावांतर योजना का लाभ छोटी जोत के किसानों को प्राथमिकता से दिए जाने के लिए कहा। मुख्यमंत्री ने भावंतर भरपाई की राशि जल्द से जल्द किसानों के खातों में जमा करने के निर्देश दिए।

मौजूदा समय में धान की फसल के अवशेषों के प्रबंधन के लिए मुख्यमंत्री ने स्थानीय स्तर पर कमेटियां बनाने के निर्देश दिए ताकि ये कमेटियां पराली प्रबंधन के लिए उचित व्यवस्था बना सकें। मुख्यमंत्री ने ऐसी योजना बनाने के लिए कहा जिससे किसानों को पराली की एवज में आर्थिक लाभ मिल सके। मुख्यमंत्री ने कहा कि बरसात के कारण टूटी सड़कों की रिपेयर जल्द से जल्द करें। साथ ही उन्होंने सिंघू और टिकरी बॉर्डर के आसपास की लिंक सड़कों को भी जल्द से जल्द रिपेयर करने के लिए भी कहा।
बैठक में हरियाणा के मुख्य सचिव श्री विजय वर्धन, मुख्यमंत्री के मुख्य प्रधान सचिव श्री डीएस ढेसी, अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री संजीव कौशल, श्री पीके दास, श्री आलोक निगम, श्री अनुराग रस्तोगी, डॉ. सुमिता मिश्रा, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री वी उमाशंकर, उपप्रधान सचिव श्रीमती आशिमा बराड़ सहित कई विभागों के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे।







Source

Leave a Comment