देश भर में आज ‘समर्पण दिवस’ के रूप में मनाए जा रहे पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयं…


देश भर में आज ‘समर्पण दिवस’ के रूप में मनाए जा रहे पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती के अवसर पर हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि आम आदमी के कल्याण के लिए बनाई गई हर योजना के क्रियान्वयन के लिए राज्य सरकार की रणनीति अंत्योदय के सिद्धांत- पहले अंतिम व्यक्ति की सेवा और उत्थान करने पर केंद्रित है।
मुख्यमंत्री आज यहां प्रेस वार्ता को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि उन्होंने हमेशा माना है कि किसी भी राज्य की वृद्धि और आर्थिक प्रगति का शीर्ष पर बैठे लोगों से पता नहीं लगाया जा सकता है, बल्कि इसका पता तब लगाया जा सकता है, जब सभी जन कल्याणकारी योजनाओं का लाभ समाज के अंतिम व्यक्ति को मिलना सुनिश्चित हो।
उन्होंने कहा कि विभिन्न कल्याणकारी परियोजनाओं का लाभ पात्र लाभार्थियों तक पहुंचाना सुनिश्चित करने के लिए यह महत्वपूर्ण है कि शासन और सेवाओं के वितरण में सुधार किया जाए। इसके लिए राज्य सरकार द्वारा कई क्रांतिकारी कदम उठाए जा रहे हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पंडित दीनदयाल ने हमेशा एकात्म मानववाद के दर्शन और अंत्योदय की अवधारणा का प्रचार किया है, जो राज्य सरकार की किसी भी लोक कल्याण नीति को बनाने में प्रमुख सिद्धांत रहे हैं।
उन्होंने कहा कि पण्डित दीनदयाल उपाध्याय के अंत्योदय के दर्शन के अनुरूप प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने ‘सबका साथ-सबका विकास-सबका विश्वास’ का नारा दिया था। इसमें पिछले दिनों उन्होंने ‘सबका प्रयास’ को भी जोड़ा है, जो सरकार की गरीब, किसान सहित समाज के अन्य वर्गों के उत्थान की प्राथमिकता पर प्रकाश डालता है।

उन्होंने कहा कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती के साथ-साथ आज हरियाणा के पूर्व उप प्रधानमंत्री चौधरी देवीलाल की जयंती भी है, उन्हें भी नमन करता हूं। मुख्यमंत्री ने कहा कि जिस तरह पंडित दीनदयाल उपाध्याय ने अंतिम पंक्ति में खड़े अंतिम व्यक्ति के उत्थान के लिए ‘अंत्योदय दर्शन’ प्रदान किया था, उसी तरह चौधरी देवीलाल ने बुढ़ापा पेंशन और घुमंतू जातियों के बच्चों को शिक्षा के लिए प्रेरित करने हेतु प्रतिदिन एक रुपया छात्रवृत्ति देने जैसी कारगर योजनाएं शुरू की थी। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिवस को 17 सितम्बर से लेकर 7 अक्तूबर तक देशभर में ‘सेवा समर्पण पर्व‘ मनाया जा रहा है। इसी कड़ी में आज पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती को ‘समर्पण दिवस‘ के रूप में मनाया जा रहा है। हम भी प्रदेश में समर्पण कार्यक्रम के माध्यम से ऐसे महापुरुषों के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करते हैं।




Source

Leave a Comment