वैष्णो देवी मंदिर की गुफा में पानी नहीं चलेगा, गुरुद्वारों में बाहर से मिठाई व प्रसाद लाने पर रोक

  • श्रद्धालुओं काे दिए जाएंगे मास्क, अंबिका देवी मंदिर में पैडल मशीन से हाथ हाेंगे सेनिटाइज, सोशल डिस्टेंसिंग के लिए मार्किंग की

अम्बाला. मंदिर, गुरुद्वारों एवं अन्य धर्म स्थलों के कपाट सोमवार से नए नियमों के अनुरूप खुलेंगे। श्रद्धालुओं को यहां सोशल डिस्टेंसिंग को पूरी तरह फॉलो करना होगा, वहीं कई और पाबंदियां रहेंगी। डीसी ने विभिन्न संगठनों के सदस्यों के साथ रविवार बैठक कर इसकी जानकारी दी।

ट्विन सिटी के प्रसिद्ध मंदिरों व गुरुद्वारों में नियमों की पालना हो इसके लिए अलग से स्टाफ की ड्यूटियां लगाई है। गुरुद्वारों के श्रद्धालुओं द्वारा लाया प्रसाद नहीं चढ़ेगा जबकि मुख्य हॉल में पाठ करने पर मनाही होगी। धर्मस्थलों पर क्या-क्या तैयारियां की गई इसे लेकर भास्कर ने पाठकों के लिए ग्राउंड रिपोर्ट तैयार की गई है।

वैष्णो देवी मंदिर की गुफा में एक बार में दाे श्रद्धालु ही जा सकेंगे
सिटी के सेक्टर-10 में मां वैष्णो देवी मंदिर के मुख्य गेट पर सिक्योरिटी गार्ड बैठेगा। मंदिर की गुफा में दाे श्रद्धालु ही एक बार में एंट्री करेंगे। जिस श्रद्धालु के पास मास्क नहीं हाेगा, उसे दिया जाएगा। मंदिर की सभी घंटियां कपड़े से बांध दी गई है। पूरे मंदिर काे सेनिटाइज किया गया। पंडित अजय ने बताया कि किसी भी मूर्ति काे छूने की अनुमति नहीं हाेगी। हर श्रद्धालु काे सेनिटाइज किया जाएगा। मंदिर की श्री सनातन धर्म सभा प्रधान प्रभुदयाल गाेयल ने बताया कि मंदिर की गुफा में पानी नहीं चलेगा। श्रद्धालु काे तिलक नहीं लगाया जाएगा न ही प्रसाद दिया जाएगा।

गुरुद्वारा पंजोखरा साहिब के हॉल में पाठ की अनुमति नहीं
ऐतिहासिक गुरुद्वारा पंजोखरा साहिब में बाहर से मिठाई, सूखा प्रसाद आदि लाने की अनुमति संगत को नहीं दी जाएगी। गुरुद्वारे के मुख्य दरबार हॉल में श्रद्धालुओं को पाठ करने की अनुमति नहीं दी जाएगी, हाल से बाहर बरामदे में श्रद्धालु पाठ कर सकेंगे। गुरुद्वारे में अलग-अलग लोकेशन पर फ्लैक्स लगाकर श्रद्धालुओं को नियमों की जानकारी दी जाएगी। गुरुद्वारे में श्रद्धालु सोशल डिस्टेंसिंग को फॉलो करें इसके लिए एक शिफ्ट में 12 सेवादारों की ड्यूटियां लगाई गई हैं। कार में आने वाले श्रद्धालुओं को जोड़े कार में ही उतारने को कहा जाएगा। जोड़ेघर में सेवादार दस्ताने पहनेंगे।

श्री मंजी साहिब गुरुद्वारा राेजाना हो रहा सेनिटाइज
श्री मंजीसाहिब गुरुद्वारा के अंदर जाने और आने से पहले सेनिटाइजेशन टनल के अंदर से निकलकर जाना पड़ता है। इसके बाद बाहर हाथ धाेने की जगह पर सेनिटाइजर रखे गए हैं। लंगर हाल और जहां श्रद्धालु आवाजाही करते हैं, उन सभी जगहाें काे पंप से सेनिटाइज किया जाता है। गुरुद्वारा मैनेजर कुलदीप सिंह भानाेखेड़ी ने बताया कि गुरुद्वारा में राेजाना गेट से लेकर अंदर प्रांगण तक सेनिटाइजेशन करवाया जा रहा है। रविवार काे गुरुद्वारा साहिब में शादी के लिए आनंद कारज थे। इसके बाद गुरुद्वारे काे सेनिटाइज किया गया। साथ ही सभी बारतियाें के हाथाें काे सेनिटाइज करवाया गया।

अम्बिका देवी मंदिर में सेनिटाइजेशन मशीन लगाई
श्री अम्बिका देवी मंदिर के गेट से लेकर मुख्यद्वार तक साेशल डिस्टेसिंग काे लेकर पूरी व्यवस्था की गई है। मंदिर के मुख्य गेट पर पाेस्टर चस्पा किया गया है। जिसमें लिखा गया है कि मास्क पहनकर ही अंदर आए। मंदिर में साेशल डिस्टेंसिंग के लिए मार्किंग कर दी गई है। पंडित जतिंद्र शर्मा व रवि ने बताया कि हाथ सेनिटाइज करने के लिए मंदिर में पैर से चलने वाली मशीन रखी गई है। मूर्तियाें से लेकर मंदिर के हर काेने काे सेनिटाइज किया जा रहा है। साेमवार काे पहला दिन हाेने से ज्यादा श्रद्धालु आ सकते हैं, इसलिए माता के दर्शनाें के लिए मंदिर का अंदर वाला मुख्य गेट नहीं खाेला जाएगा। बाहर से ही श्रद्धालुओं काे दर्शन करने हाेंगे।