अब किसान सुबह 3 से 5 बजे तक सब्जियां मंडी के अंदर ला सकेंगे

  • सब्जी विक्रेताओं के लिए डीसी की ओर से समय निर्धारित, सोशल डिस्टेंस का रखना आम नागरिकों को मंडी में नहीं मिलेगा प्रवेश, आगामी आदेशों तक मछली मंडी बंद रखने के निर्देश

झज्जर. पिछले करीब 2 महीने से परेशानी झेल रहे शहर के सब्जी मंडी विक्रेताओं को डीसी की ओर से जारी आदेशों से कुछ राहत मिल सकती है। डीसी की ओर से शनिवार को जारी आदेशों में मंडी में सामान लेकर आने वाले किसानों व दूसरे व्यापारियों के लिए समय में इजाफा किया है। अब कोई भी किसान सुबह 3 बजे से 5 बजे तक अपना सामान मंडी के अंदर ला सकता है।

जबकि इससे पहले इस काम के लिए केवल 1 घंटे का समय था। इसके बाद 5 बजे से लेकर 10 बजे तक आम रिटेलर यहां से सामान खरीद सकता है। डीसी की ओर से जारी आदेशों में कहा गया है कि सब्जी मंडी में जो भी किरयाना दुकान हैं वे भी आम सब्जी विक्रेताओं के समय ही अपना कारोबार कर सकते हैं। मंडी में सब्जी की खरीद के लिए समय सुबह 5 से 10 बजे तक निर्धारित किया गया। 10 बजे के बाद जहां सब्जी मंडी में सब्जी का काम बंद कर दिया जाएगा।

वहीं मंडी में बैठे दूसरे किरयाना संचालक भी अपना सामान नहीं बेच पाएंगे। डीसी ने इस दौरान आड़ व इवन व्यवस्था के तहत अपना कारोबार करने की हिदायत दी है। ताकि मंडी में सोशल डिस्टेंस के नियमों का पालन हो सके और भीड़-भाड़ की स्थिति में कोरोना के फैलने का खतरा न हो। यहां यह बताना भी बहुत जरूरी है कि सब्जी मंडी में कोरोना प्रभावित होने के बाद सब्जी मंडी को बंद कर दिया गया था। इस दौरान हुई रेंडम सेंपलिंग के दौरान बड़ी संख्या में बहादुरगढ़ से भी आढ़ती काेरोना की चपेट में आए थे।

जिले में अब कोरोना की स्थिति काफी बेहतर है और काफी संख्या में लोग ठीक होकर अपने घर लौट चुके हैं। मंडी आढ़तियों का कहना है कि पिछले 2 महीने से उनका व्यापार पूरी तरह से तबाह हो चुका है। इसके पीछे दो कारण विशेष रूप से रहे एक तो आम लोगों में भय की भावना और दूसरा जिला प्रशासन की ओर से जारी किए गए आदेश। मंडी प्रधान सुशील यादव का कहना है कि जब तक मंडी में सामान लेकर आने वाले किसानों में दूसरे व्यापारियों को समय की बंदिशों से झूठ नहीं मिल पाएगी तब तक मंडी में फल सब्जियां लेकर आने का सिलसिला बेहतर नहीं हो सकेगा।

इनका कहना है कि झज्जर की मंडी काफी छोटी है और यह जब तक कामयाब नहीं हो पाएगी जब तक इसमें आम लोगों के आने की छूट नहीं दी जाती है। उन्होंने पिछले दिनों डीसी को ज्ञापन दिया था कि आड़ व इवन व्यवस्था के तहत उनको व्यापार करने में काफी असुविधा बनी हुई है और जो फल सब्जियां वे 1 दिन पहले लेकर आते हैं। छोटी-छोटी परेशानियों के चलते जिले में सब्जी का व्यापार सुचारु नहीं हो पा रहा। हालांकि अब डीसी की ओर से समय में किए गए इजाफे से सब्जी मंडी के व्यापारियों को अवश्य ही कुछ राहत महसूस होगी। इस बीच डीसी ने आदेश जारी किए हैं कि मंडी में केवल उन्हीं लोगों को आने की अनुमति दी जाएगी जिनके पास मंडी सचिव की ओर से जारी किए गए पास उपलब्ध हैं। इस बीच शहर में मछली बाजार को पूरी तरह से बंद रखने के आदेश हैं।