8 से खुलेगी कैंटीन,अब 1 दिन में 200 सैनिक ले सकेंगे सीएसडी कैंटीन से सामान

झज्जर. हंगामे के बाद बंद हुई सीएसडी कैंटीन 8 जून को फिर से खोल दी जाएगी। कैंटीन खुलने से सेना से जुड़े क्षेत्र के 6 हजार 500 कार्ड धारक लाभ ले सकेंगे। 28 मई से ही सीएसडी कैंटीन बंद हैं। बार-बार दी जा रही हिदायतों के बाद भी पूर्व सैनिकों के द्वारा बिना टोकन लिए कैंटीन में प्रवेश करने और सोशल डिस्टेंसिंग की पालना न करने के कारण ही इसे बंद कर दिया गया था।
लिहाजा लॉकडाउन के नियम और कोरोना वायरस के चलते जारी दिशा-निर्देश खासतौर से सोशल डिस्टेंसिंग के नियम कैंटीन में मान्य होंगे। अगर जरा भी कोताही देखी गई तो कैंटीन बंद की जा सकती है। अब 1 दिन में 100 कार्ड होल्डर की बजाय 200 को कैंटीन से सामान लेने दिया जाएगा।

सैनिकों व पूर्व सैनिकों को यह मिली हिदायत हर किसी को मास्क लगाकर ही प्रवेश मिलेगा। नगद राशि की बजाय डेबिट और क्रेडिट कार्ड से भुगतान लिया जाएगा। सिर्फ कार्ड धारकों को ही कैंटीन के अंदर आने दिया जाएगा। एक बार में 10 लोगों को ही कैंटीन के अंदर एंट्री मिलेगी, 5 की वापसी होने पर 5 को प्रवेश मिलेगा। सामान मिलने का समय बिना लंच ब्रेक के सुबह 9 से 2 बजे और बुधवार को सुबह 9 से 1 तक रहेगा। एक दिन में 200 कार्ड धारकों को ही सामान दिया जाएगा। ऑनलाइन बुकिंग कराने पर ही मिलेगा सामान। सीएसडी कैंटीन शहर से सामान लेने के लिए हर कार्ड होल्डर को ऑनलाइन अनुमति लेकर टोकन नंबर देना होगा। कैंटीन से किसी को टोकन नहीं दिया जाएगा।

इन पांच नंबरों पर की जा सकती है बुकिंग
यह ऑनलाइन अनुमति मोबाइल नंबर 7027957612, 7027957613, 7027957614, 7027957615 और 8950797044 पर ली जा सकती है। बुकिंग कराते समय कार्ड होल्डर को अपना नाम, आर्मी नंबर और मोबाइल नंबर देना होगा। बुकिंग हर शनिवार को दोपहर 2 बजे तक शाम 4:30 बजे तक होगी। रजिस्ट्रेशन शनिवार 6 जून से शुरू होगा। बुकिंग एक हफ्ते का एडवांस होगा और मोबाइल नंबर भी सिर्फ शनिवार को ही ओपन होंगे। रजिस्ट्रेशन के बाद कार्ड धारक को कैंटीन आने का समय और दिन मोबाइल पर बताया जाएगा। बिना रजिस्ट्रेशन के किसी को भी एंट्री नहीं मिलेगी।

अनुशासन की कमी नजर आई तो फिर बंद कर देंगे कैंटीन : कैंटीन प्रबंधक
आर्मी कैंटीन के प्रबंधक रिटायर्ड कर्नल सुरेश सिंह कालिया ने कहा कि कैंटीन में ग्रोसरी सामान की कोई कमी नहीं है। भरपूर स्टॉक है और आगे भी आता रहेगा। लिहाजा कोई भी सैनिक व पूर्व सैनिक सामान लेने के लिए हड़बड़ी और जल्दबाजी न करें। इसी तरह शुरुआती दिनों में बुकिंग न मिलने पर हताश भी न हो। दिए गए आदेशों का पालन करें। कालिया ने कहा कि अगर कैंटीन में अनुशासन नहीं दिखा तो फिर से कैंटीन बंद करने का भी फैसला लिया जा सकता है।

झज्जर के कार्ड धारकों को ही मिलेगी शराब
प्रशासन ने यह भी स्पष्ट किया है कि कार्ड धारक को शराब मिलेगी। पर झज्जर कैंटीन से संबंधित कार्ड धारकों को ही शराब का कोटा मिलेगा। अन्य कैंटीन की कार्ड धारकों को यहां से शराब नहीं दी जाएगी। सेना मुख्यालय ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं।