शराब ठेका खोलने के विरोध में उतरी निखरी की महिलाएं, कहा- गांव का माहौल नहीं बिगड़ने देंगे

रेवाड़ी. दिल्ली-जयपुर राजमार्ग स्थित गांव निखरी में शराब ठेका खोले जाने की जानकारी मिलने के बाद शुक्रवार को ग्रामीणों में रोष फैल गया। गांव की महिलाओं ने ठेका स्थल पर पहुंचकर वहां बनाई जा रही एक दीवार को भी हटा दिया तथा मौजूद कारिंदों को यहां पर ठेका नहीं खोले जाने की चेतावनी दी। ग्रामीणों ने ठेका नहीं खोले जाने की मांग को लेकर उपायुक्त से भी मिलने का निर्णय लिया है।

ठेका पंचायत की बगैर जानकारी के खोला गया
सरपंच कपिल कुमार सहित अन्य गांव की महिलाओं ने बताया कि उनके गांव में शराब ठेका नहीं था। अब पंचायत की बगैर जानकारी के ही गांव में शराब ठेका खोला जा रहा है, जिसको लेकर पंचायत को चाहे जो कार्रवाई करनी पड़े वह की जाएगी। उन्होंने बताया कि वर्षों से उनके गांव में कोई शराब ठेका नहीं जिससे गांव में लड़ाई-झगड़े से लेकर अन्य घटनाएं भी नहीं होती है। लेकिन शराब ठेका खुल गया तो इससे न केवल गांव का माहौल खराब होगा अपितु बाहरी लोगों का भी आवागमन बढ़ जाएगा। सरपंच की अगुवाई में ठेका स्थल पर पहुंची महिलाएं वहां तैयार की जा रही दीवार को भी हटवा दिया। ठेकेदार की तरफ से इसके लिए स्टैंड बनाकर बेस बनवाया जा रहा है। महिलाओं के विरोध को देखते हुए फिलहाल वहां काम रोक दिया है।

सरपंच कपिल कुमार ने बताया कि इस वर्ष उनकी ग्राम पंचायत से बगैर किसी अनुमति व सूचना के आबादी क्षेत्र के साथ ही शराब ठेका खोला जा रहा है,जो कि किसी भी सूरत में खोलने नहीं दिया जाएगा। पंचायत व ग्रामीणों ने कहा कि इसको लेकर जल्द ही बैठक करके उपायुक्त से मिला जाएगा और यहां पर ठेका नहीं खोलने की मांग से अवगत कराया जाएगा। फिर भी विभाग या ठेकेदार की तरफ से कोई अधिक प्रयास किया जाता है तो ग्रामीण आंदोलन से पीछे नहीं हटेंगे। महिलाओं ने भी रोष प्रकट किया। इस दौरान मास्टर जयनारायण, सूबेसिंह, राजेश पंच, देवानन्द, धनवती, गजना, ओमवती, भतेरी व अन्य ग्रामीण मौजूद रहे।