पति ने 9 माह पहले पत्नी की दोस्त के साथ मिलकर कर दी हत्या, परिजनों को बताया रहती है बाहर

  • मृतका के भाई को मिली थी जाटूसाना क्षेत्र में 9 माह पहले मिले शव के बारे में जानकारी, कपड़ों व फोटो से की शिनाख्त

रेवाड़ी. चरखी दादरी से लगभग 9 माह पहले गायब हुई महिला का शव जाटूसाना थाना क्षेत्र के गांव कुमरोधा के पास मिला था लेकिन उस समय शिनाख्त नहीं होने के कारण पुलिस ने शव को लावारिस समझकर अंतिम संस्कार करा दिया। अब इस मामले में खुलासा हुआ है कि उस महिला की हत्या करके उसके शव को कुमरोधा गांव के समीप पति दोस्त की मदद से फेंककर चला गया।

पुलिस ने मामले में अब कार्रवाई करते हुए आरोपी पति व उसके दोस्त को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने दोनों का कोरोना टेस्ट कराने के बाद उन्हें क्वारेंटाइन सेंटर में भेज दिया है और रिपोर्ट के बाद पुलिस ने उन्हें अदालत में पेश करके रिमांड पर लेगी।

भाई को था शक इसलिए लगातार करता रहा प्रयास
जाटूसाना थाना प्रभारी नीलम ने बताया कि वर्ष 2019 में कुमरोधा गांव के समीप एक महिला का शव मिला था,उस समय महिला की शिनाख्त नहीं हो पाई थी। चूंकि नियम है कि पहचान नहीं होने के बाद पुलिस द्वारा उसके पहचान दस्तावेज रखकर मृतक का अंतिम संस्कार कर दिया जाता है, इस मामले में भी पुलिस ने महिला का अंतिम संस्कार कर दिया था। पुलिस ने बताया कि मृतका महिला की शिनाख्त चरखी दादरी निवासी राजेश की पत्नी प्रमिला देवी के रूप में हुई।

प्रमिला की शिनाख्त उसके कपड़ों व फोटो के आधार पर और किसी ने नहीं अपितु उसके भाई जिला चरखी दादरी के गांव घासोला निवासी अशोक कुमार ने चार दिन पहले की थी, जिसके बाद उसने अपनी बहन की हत्या का आरोप जीजा राजेश व उसके दोस्तों पर लगाते हुए मामला दर्ज कराया। अशोक ने पुलिस को बताया कि उसकी बहन प्रमिला की शादी वर्ष 2000 में फरुखनगर निवासी राजेश के साथ हुई थी। शादी के बाद राजेश ने फरूखनगर की जमीन बेच दी थी और दादरी में जमीन खरीदकर रहने लगा था।आरोप है कि राजेश शराब पीने का आदी था तथा उसकी बहन के साथ आए दिन झगड़ा व मारपीट करता था। इसके बाद प्रमिला अचानक गायब हो गई।

जब वे प्रमिला के बारे में पूछताछ करते तो आरोपी कोई न कोई बहाना लगा देता और कह देता कि वह बावल गई हुई है। बावल में प्रमिला का मकान था जिसकी वजह से शुरूआत में परिजनों ने उसकी बात को सही मान लिया। इसके बाद जब लगातार यही बात कही जाने लगी तो उसके भाई को शक हुआ जिसके बाद वह अपने स्तर पर पड़ताल करता हुआ बावल भी पहुंचा लेकिन वहां से भी कोई खास जानकारी नहीं मिली। इसके बाद उसे पुलिस की मदद से जाटूसाना में मिले शव के फोटो के साथ कपड़े दिखाए तो उसने उसकी पहचान अपनी बहन के रूप में की। इसके बाद मामला दर्ज कराया जिस पर पुलिस ने गुरुवार की रात को आरोपी पति राजेश व उसके साथी सुमित को गिरफ्तार कर लिया।