गार्ड को बंधक बनाया, उसने पुलिस पीसीआर देख शोर मचाया, 1 आरोपी गिरफ्तार

  • कैथल के क्योड़क गांव में शुक्रवार और शनिवार की दरमियानी रात की घटना
  • पुलिस पीसीआर गश्त पर थी, एक आरोपी को किया गिरफ्तार, बाकि फरार

कैथल. कैथल के क्योड़क गांव में शुक्रवार और शनिवार की दरमियानी रात को बदमाशों ने एचडीएफसी बैंक की एटीएम को लूटने का प्रयास किया। आरोपियों ने पिस्तौल के दम पर गार्ड को बंधक बना लिया। इसी दौरान हाईवे पीसीआर गश्त करते हुए एटीएम के नजदीक पहुंची तो गार्ड ने सहायता के लिए चिल्लाना शुरू कर दिया। पुलिस ने एक आरोपी को मौका से ही काबू कर लिया, जबकी उसके चार साथी फरार हो गए। पुलिस अब आरोपी को रिमांड पर लेकर पूछताछ कर रही है।

पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि नेशनल हाइवे पीसीआर-2 शुक्रवार की रात करीब 1.30 बजे गश्त के दौरान एचडीएफसी बैंक क्योड़क के नजदीक पहुंची। वहां खड़ी संदिग्ध गाड़ी देखकर पीसीआर रोकी तो सायरन सुनकर साइड की दुकान से बचाओ-बचाओ की आवाजें आई।

पुलिस तुरंत ही दुकान में घुसी, जहां कुर्सी पर रस्सी के साथ बैंक व एटीएम सिक्योरिटी गार्ड सुरजीत सिंह निवासी सौथा को बांधा हुआ था। एक बदमाश सुरजीत पर पिस्तौल ताने हुए था,जो पुलिस को देखकर मौके से फरार हो गया। पुलिस ने एटीएम सिक्योरिटी गार्ड को खोला। सभी बाहर निकलने लगे तो बैंक से 4 अन्य व्यक्ति निकलकर भागे।

जिनका पीछा करके पुलिस ने एक युवक को काबू कर लिया। आरोपी की पहचान नानकपुरी कॉलोनी कैथल निवासी संदीप के तौर पर हुई। इस दौरान मौके पर पहुंची चौकी क्योड़क पुलिस व नेशनल हाइवे पीसीआर-2 ने कंट्रोल रूम में अलर्ट दिया। जांच की गई तो बैंक एटीएम गैस कटर के साथ कटा मिला, जिसमें रखे 32 लाख 81 हजार 700 रुपए सुरक्षित थे।

मौका से आरोपियों द्वारा छोड़ गए दो गैस सिलेंडर, लोहा गिधाला, पाइप्रैंच, बिना नंबर की ईटियोस लीवा गाड़ी बरामद हुई। मामले की आगामी जांच चौकी क्योड़क प्रभारी एएसआई रणदीप ने करते हुए आरोपी संदीप को चार दिन के रिमांड पर लिया है।