उपभोक्ताओं से 40 हजार जमा कराया, अब ट्यूबवेल कनेक्शन देने से कर रहे इनकार

  • 23 गांवों को डार्कजोन से बाहर निकाल किसानों से ट्यूबवेल कनेक्शन के लिए मांगे थे आवेदन

नारनौल. दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम के अधिकारियों ने डेढ़ साल पहले डार्क जोन में शामिल नारनौल डिविजन के 23 गांवों को डार्कजोन से बाहर निकालकर किसानों से ट्यूबवेल के बिजली कनेक्शन के लिए आवेदन मांगे।
आवेदन करवाने के 9 महीने बाद कनेक्शन के लिए फाइव स्टार मोटर की अनिवार्यता बताकर किसानों से मोटर के 40-40 हजार रुपए जमा करवा लिए। अब डेढ़ साल बाद बिजली निगम के अधिकारी इन गांवों को डार्कजोन में बताकर ट्यूबवेल कनेक्शन देने में आनाकानी कर रहे हैं, जबकि निगम ने हाल ही में बड़कोदा/बड़गांव के एक/दो किसानों को कनेक्शन जारी कर दिए हैं। ऐसे में बिजली वितरण निगम के अधिकारियों की मनमानी किसानों पर भारी पड़ रही है। इससे किसानों में बिजली निगम के प्रति भारी रोष है। नाराज किसानों का कहना है कि अब वे निगम के खिलाफ न्यायालय का दरवाजा खटखटाएंगे। बता दें कि नांगल चौधरी व नारनौल ब्लाक में भूमिगत जलस्तर पाताल में चला जाने के कारण सरकार ने 2006 में इन दोनों ब्लाॅकों को डार्क जोन में शामिल कर यहां नए ट्यूबवेल के लिए कनेक्शन जारी करने पर रोक लगा दी थी। इसके चलते नारनौल ब्लाक में नए बिजली कनेक्शन पर पूर्णतया रोक लगी हुई थी। ऐसे में नारनौल ब्लाॅक के किसानों ने विधायक के माध्यम से 23 दिसंबर 2018 को कोरियावास रैली में मुख्यमंत्री के समक्ष यहां नए ट्यूबवेल कनेक्शन खोलने की मांग उठाई थी।

आवेदन के 9 महीने बाद तक नहीं हुई कोई कार्रवाई
आवेदन करने वालों में शामिल गांव भूषण-शोभापुर के देशराज, सतीश, राकेश, कृष्ण, शाहपुर-2 के पप्पू यादव, महेंद्र सिंह, होशियार सिंह, नीरपुर के हनुमंत, प्रवीण व राजू आदि ने बताया कि कनेक्शन के लिए आवेदन करने के 9 महीने बाद तक कोई कार्रवाई नहीं की गई। इसके बाद सितंबर 2019 के अंतिम सप्ताह में निगम ने किसानों को ट्यूबवेल पर फाइव स्टार मोटर लगाने की शर्त थोंप कर किसानों से मोटर के पैसे निगम में जमा करवा लीए। किसानों का आरोप है कि मोटर के पैसे जमा करवाने के 9 महीने बाद अब निगम के अधिकारी इन गांवों को दोबारा डार्क जोन में बताकर कनेक्शन देने में आनाकानी कर रहे हैं। इससे किसानों में रोष है। किसानों का कहना है कि बिजली निगम की मनमानी से वे तंग आ चुके हैं। ऐसे में अब वे फाइल तैयार करवा न्याय के लिए अदालत का दरवाजा खटखटाएंगे।

इन गांवों के किसानों से मांगे थे आवेदन:कोरियावास रैली के एक सप्ताह बाद दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम ने एसई कार्यालय के गेट पर तथा अंदर चस्पा कर किसानों ने ट्यूबवेल के नए कनेक्शन के लिए आवेदन मांगे थे। इन 23 गांवों में सिहमा, अटाली, खामपुरा, खासपुर, डेरोली अहीर, गुलावला, आजम नगर, कुतुबापुर, नूनी, सलूनी, नीरपुर, सुराना, बड़कोदा, बडग़ांव, नसीबपुर, सेखपुरा, नांगलिया, अकबरपुर रामू, फैजाबाद, भूषण खुर्द, भूषण कलां, शोभापुर व शाहपुर-2 आदि गांव शामिल थे। ऐसे में इन 23 गांवों के 123 किसानों ने जनवरी 2019 के प्रथम सप्ताह में नियमानुसार ट्यूबवेल कनेक्शन के लिए सिक्योरिटी राशि जमा करवा आवेदन किए थे।