सेफ्टी हाउस के बैरक में पंखे से लटक कर विचाराधीन बाल अपराधी ने दी जान

  • पाॅक्सो एक्ट के तहत विचाराधीन था बाल अपराधी, बैरक नंबर 4 में था क्वारेंटाइन

करनाल. तीन दिन पहले मधुबन के प्लेस ऑफ सेफ्टी हाउस में लाए गए एक विचाराधीन बाल अपराधी ने खुदकुशी कर ली। पाॅक्सो एक्ट के एक मामले में गिरफ्तार किए गए 16 वर्षीय विचाराधीन बाल अपराधी का शव बैरक के पंखे से लटका मिला है। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए कल्पना चावला मेडिकल कॉलेज में भेज दिया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। सोनीपत के बिंदरोली का रहने वाला 16 वर्षीय विचाराधीन बाल अपराधी एक जून को मधुबन के प्लेस ऑफ सेफ्टी हाउस लाया गया था।

उसके खिलाफ पाॅक्सो एक्ट में मामला दर्ज किया गया था। जिसकी जांच चल रही थी। सेफ्टी हाउस के अधीक्षक कृष्ण मान ने बताया कि उसको सेफ्टी हाउस के बैरक नंबर चार में क्वारेंटाइन किया गया था। क्वारेंटाइन पीरियड के चौथे दिन गुरुवार की अलसुबह उसने पंखे में फंदा लगाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। जब हाउस के कर्मचारी बैरक में खाना देने पहुंचे तो शव को पंखे से लटके देखा। सेफ्टी हाउस के अधीक्षक ने विचाराधीन बाल अपराधी द्वारा सुसाइड करने की सूचना मधुबन पुलिस को दी। सूचना मिलने के बाद थाना प्रभारी तरसेम चंद व अन्य पुलिसकर्मी मौके पर पहुंचे। पुलिस ने विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है।

युवक ने फेसबुक पर आत्महत्या करने का प्रयास लाइव किया, महिला पर लगाया ब्लैकमेलिंग का आरोप

करप्शन कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन के संचालक आकाश चौहान ने फेसबुक लाइव चलाकर फांसी का फंदा गले में डालकर आत्महत्या का प्रयास किया। फेसबुक लाइव की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई और उसे बचा लिया। फिलहाल पुलिस ने आकाश चौहान के खिलाफ आत्महत्या के प्रयास का मामला दर्ज कर लिया है। वहीं दूसरी ओर आकाश चौहान ने 2 महिला व एक पुरुष पर ब्लैकमेलिंग का आरोप लगाया है।

आकाश चौहान ने बताया कि वह एक महिला के साथ करीब 2 साल से लिव इन में रह रहा था, लेकिन अब वह महिला उसे ब्लैकमेल कर रही है और उस पर झूठा बलात्कार का केस दर्ज करवाने की धमकी दे रही है। उस महिला के साथ एक एडवोकेट महिला और उसका पति भी शामिल है जो फोन कर उसे धमकी दे रहे हैं। उनकी धमकियों से परेशान आकर वह सुसाइड कर रहा है। इतना ही नहीं जिस महिला के साथ वह रहता था वह महिला उससे तीन लाख रुपए भी लेकर गई है। आकाश चौहान सीएचडी सिटी में रहता है जहां उसने आत्महत्या करने का प्रयास किया। सदर थाना के जांच अधिकारी एससी विजय ने बताया कि मौके पर पहुंचकर उसको बचा लिया है और उसके खिलाफ आत्महत्या का प्रयास करने का मामला दर्ज कर लिया है।