सरकार ने सभी डीईओ को जिलों में कमेटी बनाकर स्कूल खोलने के मामले पर चर्चा करने को कहा

  • स्कूल शिक्षा निदेशालय, पंचकूला ने सभी जिला शिक्षा अधिकारी और मौलिक शिक्षा अधिकारियों को दिए आदेश
  • कमेटी को चर्चा के बाद 7 जून 2020 तक देनी होगी रिपोर्ट

चंडीगढ़. देश में 1 जून से शुरू हुए अनलॉक में हरियाणा सरकार ने स्कूलों को खोलने की कवायद शुरू कर दी है। इस संबंध में बुधवार को हरियाणा शिक्षा निदेशालय, पंचकूला ने सभी जिला शिक्षा अधिकारियों व मौलिख शिक्षा अधिकारियों को कमेटियां बनाकर स्कूल खोलने के विषय पर जिलेवार चर्चा करके एक रिपोर्ट 7 जून तक उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए हैं।

ये आदेश किए गए हैं जारी

  • कोरोना महामारी के दौरान स्कूलों को बंद कर दिया गया था। अब राष्ट्रीय स्तर पर लॉकडाउन की अवधि को समाप्त किया जा रहा है। ऐसे में मानव संसाधन एवं विकास मंत्रालय (एमएचआरडी) द्वारा स्कूलों को खोले जाने के संबंध में दिशा निर्देश बनाने का काम शुरू कर दिया गया है। एनसीआरटी द्वारा इस संदर्भ में मोड्यूल बनाया जा रहा है।
  • प्रदेश ने भी स्कूलों को खोलने के संदर्भ में दिशा-निर्देश बनाए जाने की प्रक्रिया आरंभ कर दी है। ताकि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए, विद्यार्थियों को संक्रमण से बचाते हुए, स्कूल को दोबारा चलाया जा सके। प्रदेश की सिफारिश एमएचआरडी को भेजे जाने के लिए चर्चा की जा रही है। इस संदर्भ में प्रत्येक जिले में एक कमेटी का गठन 4 जून 2020 तक करके इस पर व्यापक चर्चा कर अपनी रिपोर्ट 7 जून तक भेजनी होगी।

कौन-कौन होगा कमेटी में

  • कमेटी का अध्यक्ष जिला शिक्षा अधिकारी या जिला मौलिक अधिकारी (जो भी वरिष्ठ हो)
  • कमेटी का सचिव डाइट का प्रधानाचार्य होगा।
  • कमेटी में बतौर सदस्य उप जिला शिक्षा अधिकारी/खंड शिक्षा अधिकारी/खंड मौलिक शिक्षा अधिकारी
  • प्रधानाचार्य एवं मीडिल स्कूल के मुखिया सदस्य होंगे। (5 सरकारी विद्यालयों से तथा 5 प्राइवेट विद्यालयों से)
  • अध्यापक संगठनों के प्रतिनिधि (5 सदस्य)
  • प्राइवेट स्कूल संगठनों के प्रतिनिधि (5 सदस्य)
  • मीडिया जगत के सदस्य (5 सदस्य)
  • माता-पिता अभिभावक संघ (5 सदस्य)