विधानसभा के गेस्ट हाउस में पूर्व विधायकों के परिचितों को अवैध रूप से ठहराया, दो कर्मी सस्पेंड

  • जिन लोगों को ठहराया गया उनकी न कोई एंट्री की गई और न ही उनसे आईडी प्रूफ लिया गया

पानीपत. हरियाणा विधानसभा के हॉस्टल और फ्लैट के मामले लगातार चर्चाओं में हैं। अब नया मामला विधानसभा के गेस्ट हाउस का सामने आया है। विधानसभा की ओर से दो फ्लैट मिलाकर एक गेस्ट हाउस बनाया है। यहां दो दिन पहले रात को गैरकानूनी तरीके से दो लोगों को ठहराए जाने पर विधानसभा के दो कर्मचारी धर्मवीर यादव और सतराजीत को सस्पेंड कर दिया गया है। इनके खिलाफ विभागीय जांच बैठा दी है। इन लोगों की न तो कहीं कोई एंट्री की गई और न ही उनसे आईडी प्रूफ लिया गया।
रविवार देर रात इसकी भनक हरियाणा विधानसभा स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता को लगी तो उन्होंने विधानसभा सचिवालय ऑफिसर को मौके पर स्थिति देखने के आदेश दिए, लेकिन रात का कर्फ्यू होने की वजह से यह ऑफिसर सोमवार सुबह जल्दी ही साढ़े छह बजे गेस्ट हाउस पहुंच गया। वहां देखा कि दो लोग ठहरे हुए थे। इन दोनों के साथ गेस्ट हाउस में ड्यूटी पर तैनात दोनों कर्मचारियों ने पहले तो कुछ बताने में आनाकानी की, लेकिन बाद में उन्होंने बताया कि एक पूर्व विधायक के परिचित हैं। स्पीकर ने पूरी रिपोर्ट लेने के बाद दोनों कर्मचारियों को सस्पेंड कर दिया। विधानसभा स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता का कहना है कि इस प्रकार किसी को नहीं ठहराया जा सकता। हमने पहले ही विधायकों को ठहरने के लिए नियम बनाए हुए हैं। साथ आईडी प्रूफ भी अनिवार्य किया हुआ है।
पंजाब नंबर की गाड़ी में आए थे युवक
गेस्ट हाउस में ठहरे लोगों के पास पंजाब नंबर की गाड़ी थी और वे पंजाब के ही रहने वाले थे। सूत्रों का कहना है कि वे एक पूर्व विधायक के बेटे से मिलने आए हुए थे। इन युवकों को गैरकानूनी तरीके ठहराया गया था। बताया गया कि 22-23 मई की रात को भी गेस्ट हाउस में किसी को ठहराया गया था।