बिना आईडी, बिना रजिस्टर में एंट्री मिले 2 लोग, विधानसभा स्पीकर ने हॉस्टल के 2 कर्मचारियों को किया सस्पेंड

  • विधानसभा स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता ने मामले में जांच के दिए आदेश
  • सुपरवाइजर धर्मबीर यादव तथा टेलीफोन अटैंडेंट शतराजीत सिंह को किया सस्पेंड

चंडीगढ़. हरियाणा विधानसभा का एमएलए हॉस्टल पिछले कुछ समय से सुर्खियों में है। इस बार सुर्खियों में आने की वजह रविवार को हुई छापेमारी है, जो खुद विधानसभा स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता ने करवाई थी। अलसुबह 6 बजे जब विधानसभा के अधिकारियों ने यहां छापेमारी की तो दो व्यक्ति एमएलए हॉस्टल के कमरे में सोते मिले। उनकी न तो रजिस्टर में कोई एंट्री थी और न ही कोई आईडी प्रूफ लिया गया था। इस पर कार्रवाई करते हुए हॉस्टल के दो कर्मचारियों को सस्पेंड कर दिया गया है।

प्रदेश में 22 मार्च को जनता कर्फ्यू के बाद 23 मार्च से लॉकडाउन शुरू हो गया था। जिसके चलते चंडीगढ़ के सेक्टर-3 स्थित एमएलए हॉस्टल में रहने वाले विधायक, पूर्व विधायक सभी अपने घरों को रवाना हो गए। यहां ठहरने वाला मंत्रियों का स्टॉफ भी चला गया था। एमएलए हॉस्टल बिल्कुल खाली पड़ा था। 31 मई को विधानसभा स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता ने अधिकारियों को यहां जांच करने के आदेश दिए।

अधिकारी पहुंचे तो यहां दो व्यक्ति ठहरे हुए मिले। उनकी न तो रजिस्टर में कोई एंट्री थी और न ही उनके कोई आईडी प्रूफ लिए गए थे। इस संबंध में मौके पर मौजूद कर्मचारी कोई जवाब नहीं दे पाए। इस पर कार्रवाई करते हुए विधानसभा स्पीकर ने एमएलए हॉस्टल के सुपरवाइजर धर्मबीर यादव तथा टेलीफोन अटैंडेंट शतराजीत सिंह को सस्पेंड कर दिया। इनके खिलाफ जांच भी बैठा दी है।