राष्ट्रपति ट्रंप ने टाली जी-7 की बैठक, कहा- भारत को भी न्योता देंगे

अमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने शनिवार को कहा कि वे ग्रुप सेवन देशों का सम्मेलन स्थगित करने जा रहे हैं. ये मीटिंग पहले इस जून में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के ज़रिए होने वाली थी. अब राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा है कि वे भारत, रूस, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण कोरिया को भी इस बैठक में शरीक होने का न्योता देंगे. एयरफोर्स वन में उन्होंने संवाददाताओं से कहा, “आज दुनिया में जो कुछ हो रहा है, मुझे नहीं लगता कि ग्रुप सेवन उसका वाजिब तरीके से प्रतिनिधित्व करता है. ये देशों का एक पुराना पड़ गया समूह बन गया है. वे भारत, रूस, दक्षिण कोरिया और ऑस्ट्रेलिया को भी इस सम्मेलन में शामिल होने का न्योता देंगे. अगला सम्मेलन सितंबर में या उससे पहले हो सकता है या फिर संयुक्त राष्ट्र की महासभा के बाद. मुमकिन है कि मैं चुनाव के बाद ये बैठक बुलाऊं.”

अमरीका में नवंबर में चुनाव होने हैं और राष्ट्रपति ट्रंप व्हॉइट हाउस में अपनी वापसी के लिए पूरा जोर लगा रहे हैं. राष्ट्रपति ट्रंप ने ग्रुप सेवन की बैठक को जी-10 या जी-11 कह कर संबोधित किया. उन्होंने कहा कि बाक़ी चार देशों के साथ मोटे तौर पर इस मुद्दे को उनके समक्ष उठाया गया है. पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार जून में होने वाली इस बैठक के समय राष्ट्रपति ट्रंप कैंप डेविड में मौजूद रहने वाले थे और बाक़ी नेता वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इसमें शामिल होते. पिछले हफ़्ते ट्रंप ने ये कहकर सब को चौंका दिया था कि वे ग्रुप सेवन की बैठक व्हॉइट हाउस में ही बुला सकते हैं जहां सभी नेताओं को आने के लिए न्योता जाएगा. लेकिन जर्मन चांसलर एंगेला मर्केल ने इस मीटिंग के लिए अमरीका जाने से इनकार कर दिया. ऐसा करने वाली वाली ग्रुप सेवन देशों की वो पहली नेता थीं. जर्मन चांसलर के प्रवक्ता स्टीफ़न सीबर्ट ने कहा, “अभी की महामारी की स्थिति को देखते हुए वो वाशिंगटन नहीं जा सकतीं. हालाँकि, चांसलर इस निमंत्रण के लिए अमरीकी राष्ट्रपति का आभार जताती हैं.” लेकिन फ़्रांस के एक अधिकारी ने कहा कि राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉं अमरीका जाना चाहेंगे बशर्ते उनकी सेहत इसकी इजाज़त दे. शुक्रवार को ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा था कि वे निकट भविष्य में जी-7 की बैठक आयोजित करने पर सहमत हैं जिसमें सभी नेता जाकर शरीक हो सकें.