पानीपत 29 मई- शुक्रवार को पानीपत जंक् शन से अररिया-बिहार के लिए 1600 प्रवासी मजदूरों को भेजा गया।

पानीपत 29 मई- शुक्रवार को पानीपत जंक् शन से अररिया-बिहार के लिए 1600 प्रवासी मजदूरों को भेजा गया। इनमें 400 मजदूर सोनीपत से और 1200 मजदूर जिला झज्जर से हरियाणा रोडवेज की बसों के माध्यम से पानीपत लाए गए थे। इन सभी को यहां लाने के बाद ट्रेन के माध्यम से बिहार के विभिन्न जिलों में भेजा गया है। इससे पूर्व सभी प्रवासियों का मैडिकल करवाया गया।
ट्रेन को रवाना करवाने से पूर्व रेलवे के कर्मचारियों ने ट्रेन को सैनेटाईज किया। सभी प्रवासी मजदूरों को खाना और पीने के पानी की बोतलें भी उपलब्ध करवाई गई। जिला प्रशासन की ओर से एमडी शुगर मिल प्रदीप अहलावत, सोनीपत के जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी संजय धैत्रवाल , गन्नौर के डीएसपी संदीप कुमार, सिख यूथ फ़ेडरेशन व गुरु रामदास सिंह सभा के प्रतिनिधियों ने सभी प्रवासी मजदूरों का अभिवादन कर उन्हें यहां से रवाना किया।
बहादुरगढ़ में जूतों की कम्पनी में काम करने वाले सागर ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान उनकी कम्पनी में छंटनी हो गई थी। इसलिए वे अपने घर जा रहे हैं। लॉकडाउन के बाद वे वापिस आएंगे। रैक् सीन बनाने वाली कम्पनी में काम करने वाले राहुल ठाकुर और रविन्द्र कुमार ने भी उनके घर पर जाने की व्यवस्था करने के लिए सरकार का आभार जताया। इसी तरह खल-बिनौला के मील में काम करने वाले ओमप्रकाश और सोनीपत-राई के फास्ट फूड में काम करने वाले शुभम ने बताया कि वे एक बार घर जाकर लॉकडाउन के बाद वापिस काम पर लौटेंग। वे बहुत दिन बाद घर पर वापिसी कर रहे है। उन्होंने कहा कि उन्होंने जाने के लिए ऑनलाईन रजिस्ट्रेशन करवाया था। सरकार ने फ्री में जाने के लिए उनका इंतजाम किया है। क्योंकि पैसे की भी बहुत समस्या हो गई थी। वे अपने घर जाकर बहुत खुश हो रहे हैं। सभी ने खाना-पानी, मास्क इत्यादि की व्यवस्था की है, जिससे वे खुश हैं। यह ट्रेन बिहार के बक्सर, भोजपुर, गोपालगंज, मुजफ्फरपुर, दरभंगा इत्यादि के प्रवासियों को लेकर रवाना हुई है।