82 वर्षीय बुजर्ग महिला की लाठी डंडों से पीटकर हत्या

झज्जर. उपमंडल के गांव दरियापुर में दो परिवारों के बीच हुए झगड़े में एक बुजुर्ग महिला की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई। झगड़ा पशुओं को बांधने को लेकर हुआ। दर्जनभर महिला और पुरुषों ने मिलकर दूसरे परिवार पर लाठी डंडों से हमला कर दिया। मामले की प्राथमिक जांच कर पुलिस ने बुजुर्ग महिला का शव पोस्टमार्टम कराकर परिजनों को सौंप दिया है। लेकिन पीड़ित परिवार ने हंगामा कर दिया और शव को गली में रखकर धरना दे दिया। उन्होंने कहा कि आरोपियों के नहीं पकड़े जाने तक वे मृतका का अंतिम संस्कार नहीं करेंगे।

पुलिस के अनुसार, बीती देर रात गांव की पंचायती जमीन पर पशुओं को बांधने को लेकर दो परिवारों के बीच झगड़ा हो गया। शुरू में गाली गलौज से शुरू हुआ झगड़ा मारपीट में बदल गया। गोपाल पुत्र रोशनलाल और सुरेश पुत्र रामनारायण का परिवार पंचायती जमीन पर अपने पशु बांधता था। आमतौर पर दोनों परिवारों के बीच झगड़ा होता रहता था लेकिन बीती रात झगड़ा ज्यादा बढ़ गया और लाठी-डंडों से दोनों परिवारों के बीच मारपीट शुरू हो गई। झगड़े के दौरान सुरेश ने परिवार के अन्य सदस्यों के साथ मिलकर गोपाल परिवार पर हमला कर दिया। हमले में गोपाल परिवार की 82 वर्षीय बुजुर्ग महिला गंदोड़ी देवी पत्नी मांगेराम को गहरी चोटें आई। उन्हें गंभीर हालत में दिल्ली के जाफरपुर स्थित राव तुलाराम अस्पताल ले जाया गया। अस्पताल में चिकित्सकों ने गंदोड़ी देवी को मृत घोषित कर दिया।
सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और आवश्यक कार्रवाई शुरू की। मंगलवार को पुलिस ने गंदोड़ी देवी के शव का पोस्टमार्टम करा परिजनों को सौंप दिया। गोपाल ने पुलिस को दी शिकायत में कहा कि सुरेश के परिवार ने मिलकर रात करीब 10 बजे उन पर हमला कर दिया। हमले में लाठी डंडों का प्रयोग किया गया। इसी हमले में उसकी मौसी गंदोड़ी देवी की हत्या कर दी गई और परिवार के कई अन्य सदस्यों को घायल कर दिया है। एसएचओ जितेंद्र कुमार ने बताया कि पुलिस ने सुरेश सहित शरबती, प्रवीन, नवीन, राहुल, खुशी, शीला, सुभाष, बबीता, अनिल, सुशीला, कमला, सतबीर, कृष्ण, सोनू, धर्मपाल सहित अन्य लोगों पर हत्या सहित विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है।
उधर, पोस्टमार्टम के बाद शव मिलने पर परिवार के सदस्यों ने अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया। वे शव को गली में रखकर रोष प्रकट करने लगे। उन्होंने कहा कि जब तक आरोपियों को पकड़ा नहीं जाएगा वह शव का अंतिम संस्कार नहीं करेंगे। सूचना मिलते ही थाना प्रभारी जितेंद्र कुमार मौके पर पहुंचे और मृतक के परिजनों को आरोपियों को जल्द गिरफ्तार करने का आश्वासन दिया। लेकिन परिवार के सदस्य मौके पर ही आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग पर अड़े रहे। करीब 2 घंटे तक शव को गली में रखा गया। एसएचओ जितेंद्र कुमार ने परिवार के सदस्यों को बताया कि 3 लोगों को हिरासत में लिया गया है जबकि शेष लोगों को भी जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा मामले की निष्पक्ष जांच की जाएगी। किसी भी आरोपी को बख्शा नहीं जाएगा। जितेंद्र की ओर से आश्वासन मिलने पर परिवार के सदस्य शव का अंतिम संस्कार करने के लिए तैयार हुए। देर शाम को गांव के श्मशान घाट पर मृतक महिला का अंतिम संस्कार किया गया।