छात्रा बोली- हमारा फोन जियो का सर, इसमें 8 एमबी मिलता है डाटा, पढ़ाई करना मुश्किल, एक पिता का कहना है फोन में नेट खत्म हो गया, रिचार्ज के पैसे नहीं

सोनीपत. कोविड-19 को फैलने से रोकने को लेकर स्कूल व कॉलेज बंद है। बच्चों की पढ़ाई पर असर न पड़े, इसको लेकर राजकीय व प्राइवेट स्कूल प्रबंधन व टीचर बच्चों को ऑनलाइन स्टडी करवा रहे है। बच्चों का ज्यादातर समय फोन या लैपटॉप पर न बीते, इसके लिए टीचर सब्जेक्ट वाइज होमवर्क की वीडियो क्लिप बनाकर व्हाट्सएप पर भेज रहे है, ताकि बच्चा वीडियो को डाउनलोड कर अपनी पढ़ाई को निरंतर रख सके। लेकिन ऑनलाइन स्टडी अब प्रभावित होती दिख रही है, इसका सबसे बड़ा कारण ये भी है कि लॉकडान-4.0 लागू होने के साथ ही उद्योग धंधे के अलावा बाजार खोलने में सरकार ने राहत दी है।

ऐसे में बच्चों के अभिभावक स्मार्ट फोन अपने साथ लेकर काम पर जा रहे है, जिनके पास फोन नहीं थे तो उन्होंने अपने परिचित लोगों के नंबर शिक्षक के ग्रुप में जुड़वाए थे, लेकिन वे भी अब धीरे-धीरे कर ग्रुप को लेफ्ट कर रहे है। इतना ही बच्चें पर्ची बनाकर अपनी समस्या को शिक्षक के पास भेज रहे है उनका कहना है कि मोबाइल में नेट कम है, वह ज्यादा समय तक ऑनलाइन पढ़ाई या वीडियो क्लिप डाउनलोड नहीं कर सकते। इसलिए मैं पढ़ाई नहीं कर सकती।

हमारा फोन जियो का कम मिलता है नेट

बच्चों को ऑनलाइन स्टडी करवाने के लिए शिक्षक ने ग्रुप बना रखा है। ग्रुप में एक छात्रा ने कागज की पर्ची को पोस्ट किया है। जिस पर लिखा- सर हमारे फोन में 8 एमबी या उससे ऊपर तक काम नहीं चलता है क्योंकि हमारा फोन जियो का फोन है। इसलिए मै काम नहीं कर सकती।

कोई ग्रुप छोड़ रहा तो कोई नेट न होने का बना रहा बहाना: अजित
हसला के राज्य प्रेस सचिव अजित चंदेलिया ने बताया कि लॉकडाउन में स्कूल बंद है। विभाग ने बच्चों को ऑनलाइन शिक्षा देने का फैसला लिया है। इसके लिए शिक्षक पूरजोर से लगे है। बच्चों को ऑनलाइन स्टडी करवाने के लिए साथ ही टेस्ट लेकर अभिभावकों को फीडबैक दे रहे है। उन्होंने बताया कि अब उनके पास बच्चों की अजीबो-गरीब तरह की शिकायतें आ रही है। कोई कह रहा है कि उनके फोन में नेट नहीं है तो किसी के अभिभावक नेट रिचार्ज करवाने के लिए पैसे न होने की बात कर रहे है।

रिचार्ज खत्म हो गया बेटी काम नहीं कर पाएगी
एक अभिभावक ने शिक्षक के पास फोन कर कहा कि उसके फोन का रिचार्ज खत्म हो गया है। परसो ही रिचार्ज कराया था। अब उसके पास पैसे नहीं है जो फोन में नेट रिचार्ज करवा लें, ऐसे में अब उसकी बेटी अब ऑनलाइन काम नहीं कर पाएगी। स्कूल खुल जाएंगे तो बच्चों को स्कूल में ही पढ़ा लेना आप।

सर अब मेरे पास फोन नहीं कैसे करुं पढ़ाई

एक स्टूडेंट ने शिक्षक को कहा कि उसके पापा अब दुकान पर जाने लगे है, वे नेट वाला फोन अपने साथ लेकर जाते है। अब उसके पास फोन नहीं है।