कंटेनमेंट जोन वाले क्षेत्र के खिलाड़ी नहीं जा सकेंगे स्टेडियम

  • लोकल कोच ही खिलाड़ियाें को करा सकेंगे अभ्यास, कंटेनमेंट जोन के खिलाड़ियाें को वीडियो से देंगे टिप्स

जींद. अब कंटेनमेंट जोन में आने वाले क्षेत्र के खिलाड़ी स्टेडियम में नहीं आ सकेंगे। जो खिलाड़ी कंटेनमेंट जोन में आते हैं वह अपने कोच से वीडियाे के माध्यम से घर पर ही टिप्स ले सकते हैं और लोकल कोच अपने आसपास के खिलाड़ियाें को ही समय अनुसार विभिन्न खेलों के अभ्यास करा सकेंगे। इसके लिए जिला खेल अधिकारी विनोद बाला ने निर्देश दिए हैं कि नियमानुसार एक कोच के साथ 10 खिलाड़ी व एक साथ दो कोच के साथ 18 खिलाड़ी स्टेडियम में प्रवेश कर एक घंटा अभ्यास कर सकते हैं और कंटेनमेंट जोन वाले क्षेत्र के खिलाड़ियाें के लिए स्टेडियम में न आए।

लॉकडाउन के लंबे समय बाद स्टेडियम जरूर खुले हैं लेकिन अब जो खिलाड़ी रेड जोन में नहीं आते वही खिलाड़ी मैदान में अपने-अपने खेलों के लिए अभ्यास कर सकते हैं। स्टेडियम में आने पर खिलाड़ियाें के कोच द्वारा अपने स्तर पर फिटनेस जांच की जाएगी। अगर किसी खिलाड़ी को खांसी, जुकाम, बुखार व सिरदर्द की शिकायत पाई जाती है तो उसे मैदान में एंट्री नहीं होगी। अब जिले में 18 कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं और इसमें 400 से अधिक ऐसे खिलाड़ी हैं जिनको अभी मैदान से कुछ दिन और दूर रहना पड़ेगा।

लोकल खिलाड़ी भी ज्यादातर कंटेनमेंट जोन डिफेंस व रोहतक रोड से डिफेंस कॉलोनी व रोहतक की बिशंबर नगर, लक्ष्मी नगर व गुरुद्वारा कॉलोनी कंटोनमेंट जोन में आती है और लोकल खिलाड़ी भी इन्हीं क्षेत्र में ज्यादा है। अब इन क्षेत्र के खिलाड़ी कंटेनमेंट जोन की तय समय अवधि तक मैदान पर नहीं आ सकते। इन क्षेत्र में आने वाले खिलाड़ी अपने कोच से फोन पर बातचीत कर खेलों के बारे में टिप्स ले सकते हैं।

कंटेनमेंट जोन में आने वाले क्षेत्र के खिलाड़ी नहीं आ सकते मैदान में
^जो क्षेत्र कंटेनमेंट जोन में आते हैं। वह खिलाड़ी मैदान में आने की अनुमति नहीं है। इसके लिए सभी कोच को निर्देश दिए हैं कि वह अपने लोकल खिलाड़ी को ही मैदान में अभ्यास करवाएं और अपने खिलाड़ियाें का स्वास्थ्य भी जांचें। -विनोद बाला, डीएसओ जींद।