रजिस्ट्रेशन नहीं होने पर कैंटीन के बाहर पूर्व सैनिकों का हंगामा, टूटी सोशल डिस्टेंसिंग

  • सीएसडी कैंटीन में 100 लोगों को ही रजिस्ट्रेशन के हिसाब से एक दिन में देंगे सामान, दो दिन की हो चुकी है एडवांस बुकिंग
  • अनुशासन की मिसाल माने जाने वाले पूर्व सैनिकों से उम्मीद है संयम से काम लेंगे, नहीं तो रेवाड़ी और झज्जर की तरह मिलेगी बंद करने की चेतावनी

रोहतक. देव कॉलोनी स्थित पूर्व सैनिकों की कैंटीन शुक्रवार से खुल गई। फोन कॉल के जरिए सामान लेने के लिए पहले ही रजिस्ट्रेशन करवा लिए गए थे। रजिस्ट्रेशन के मुताबिक पहले 100 लोगों को सुबह 9 बजे से दोपहर 2 बजे तक राशन दिया गया। वहीं, जिन पूर्व सैनिकों के रजिस्ट्रेशन नहीं हो सके वे भी कैंटीन के बाहर काफी संख्या में पहुंच गए। उन्होंने अारोप लगाया कि वे काफी समय से रजिस्ट्रेशन करवाने के लिए फोन मिला रहे हैं, लेकिन उनका रजिस्ट्रेशन नहीं हो रहा। यहां पर दोपहर दो बजे तक विवाद की स्थिति बनी रही। जब दो बजे के बाद इंतजार कर रहे पूर्व सैनिक अंदर घुसने लगे तो पुलिस कर्मचारियों ने उन्हें धक्के मारकर बाहर निकाला। इस पर पूर्व सैनिक और भड़क गए। उन्हें रजिस्ट्रेशन करवाने की कहकर भेज दिया गया। अनुशासन की मिसाल माने वाले पूर्व सैनिकों और कैंटीन प्रशासन को यहां सोशल डिस्टेंसिंग की अच्छी व्यवस्था बनानी होगी, नहीं तो रेवाड़ी की तरह ही कैंटीन को बंद करके आधा-अधूरा खोला जाएगा। झज्जर में भी प्रशासन की ओर से सोशल डिस्टेंसिंग बिगड़ने पर नोटिस दिया जा चुका है।

एसोसिएशन ने व्यवस्था बनाने के लिए 5 पूर्व सैनिक दिए:

हरियाणा पूर्व सैनिक संघ के प्रवक्ता कैप्टन जगबीर मलिक ने बताया कि एसोसिएशन ने 5 पूर्व सैनिक अनुशासन बनाने के लिए ही दिए थे, लेकिन अब जरूरत पड़ी तो और भी एसोसिएशन सदस्यों को लगाया जा सकता है। कैंटीन स्मार्ट कार्ड धारक पूर्व सैनिकों और वीर नारियों को 21 मई से टेलीफोन नंबर 01262-262326 या मोबाइल नंबर 8199905061 पर सुबह 9 बजे से दोपहर 2 बजे तक अपनी बुकिंग करानी होगी।

पूर्व सैनिक बोले-

8 घंटे इंतजार के बाद भी अधिकारियों ने कोई सुनवाई नहीं की: पूर्व सैनिक वेदप्रकाश ने बताया कि सुबह 9 बजे से 2 बजे तक फोन किया, लेकिन बुकिंग नहीं हो पा रही है। एक-दो बार उठाया फिर काट दिया। हवलदार बलराज सिंह ने कहा कि सुबह 6 बजे ही आ गए थे। सारे लोगों की सूची भी बना दी और अंदर दे दी कि इनका रजिस्ट्रेशन कर दो, क्योंकि फोन नहीं मिल रहा है। शिमली से रामचंद्र ने कहा कि वह सुबह 6 बजे आए थे, लेकिन फोन बंद पड़ा है। तिलक नगर से सूबेदार कृष्ण नेहरा कहते हैं कि गेट के अंदर से बताया गया कि अब 27 तक बुकिंग हो चुकी है। कारौर से रामकवार का कहना था कि सुबह से कोई सुनवाई नहीं हुई।

पूर्व सैनिकों को करना होगा सहयोग : मैनेजर

^पूर्व सैनिकों को जरा समझना होगा कि कैंटीन में पर्याप्त सामग्री है। किसी को परेशानी नहीं आने दी जाएगी। हम भी चाहते हैं कि इस महीने का पूरा सामान चला जाए ताकि आगे फिर से डिमांड के अनुसार सप्लाई ली जा सके। हर किसी को थोड़ा सहयोग करने की जरूरत है। कोशिश रहेगी कि समय रहते सभी को सामान उपलब्ध करवा दिया जाएगा।
– कर्नल एसएस सांगवान, मैनेजर, ईएसएम सीएसडी कैंटीन।