अबकी बार नकल केस में यूएमसी वाले परीक्षार्थियों की भिवानी बोर्ड में नहीं होगी व्यक्तिगत सुनवाई

  • हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड ने कोरोना महामारी के चलते लिया फैसला
  • यूएमसी वाले विद्यार्थियों को प्रोफार्मा भरकर भेजना होगा बोर्ड में

भिवानी. हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड भिवानी द्वारा मार्च-2020 में संचालित करवाई गई सैकेण्डरी की परीक्षा में जिन परीक्षार्थियों के नकल (यूएमसी) से सम्बन्धित केस दर्ज किए गए है, कोविड-19 के संक्रमण के चलते बोर्ड मुख्यालय पर व्यक्तिगत सुनवाई के लिए बुलाया जाना सम्भव नहीं है। इसलिए ऐसे सभी परीक्षार्थी यूएमसी प्रोफार्मा भरकर 27 मई तक ऑनलाइन भेज सकते हैं।

जानकारी देते हुए बोर्ड अध्यक्ष डॉ. जगबीर सिंह एवं सचिव राजीव प्रसाद ने बताया कि ऐसे नियमित परीक्षार्थी जिनका यूएमसी दर्ज हुआ था, उनके स्कूल के मुखिया की ई-मेल पर यूएमसी प्रोफार्मा भेज दिया गया है। सभी सम्बन्धित विद्यालय के मुखिया अपने विद्यालय के परीक्षार्थियों को अवगत करवाएं कि वे यह प्रोफार्मा भरकर ई-मेल आईडी या बोर्ड वॉटसअप नम्बर 88168-40349 पर 27 मई तक भेजना सुनिश्चित करें तथा नियमित छात्र स्वयं भी बोर्ड की वेबसाइट पर उपलब्ध यूएमसी परीक्षार्थियों की सूची देखकर प्रोफार्मा भरकर ई-मेल या वॉट्सअप पर भेज सकते हैं।

उन्होंने आगे बताया कि स्वयंपाठी, मुक्त विद्यालय के परीक्षार्थियों द्वारा आवेदन करते समय आवेदन पत्र में उपलब्ध करवाए गए नंबर पर एसएमएस के माध्यम से सूचना दे दी गई है। उन्होंने बताया कि यदि किसी भी परीक्षार्थी द्वारा 27 मई तक प्रोफार्मा भरकर नहीं भेजा जाता है तो उसे अनुपस्थित मानकर यह समझा जाएगा कि परीक्षार्थी अपने बचाव में कुछ नहीं कहना चाहता।