सरकार की नीतियों के विरोध में हल्ला बोल प्रदर्शन आज

भिवानी. केंद्रीय श्रमिक संगठनों व कर्मचारी संगठनों के संयुक्त आह्वान पर 22 मई राष्ट्रव्यापी विरोध दिवस हल्ला बोल प्रदर्शन किया जाएगा। इसकी तैयारियों को लेकर महम रोड स्थित जन स्वास्थ्य विभाग में बैठक राज्य प्रधान भरत सिंह खटाणा की अध्यक्षता में की गई। बैठक का संचालन करते हुए पवन कुमार, सतीश पंघाल ने बताया कि पूरे देश के अंदर तमाम मजदूर, कर्मचारी, संगठनों पर जो इस कोरोना महामारी की आड़ में केंद्र व राज्य सरकारें हमले कर रही हैं। श्रम कानूनों में संशोधन कर पूंजीपतियों के हक में फैसले किए जा रहे हैं। सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के बैनर तले कर्मचारी अपनी मांगों को लेकर 22 मई को सभी विभागों में द्वार सभाएं कर विरोध प्रदर्शन करेंगे। कोरोना महामारी में काम करने वाले कर्मचारियों को संक्रमण से बचाने के लिए सुरक्षा उपकरण उपलब्ध करवाए जाएं। कोरोना योद्धा कच्चे व पक्के कर्मचारियों को बिना शर्त के सभी को 50 लाख बीमा योजना में शामिल किया जाए। डीए एलटीसी नई भर्ती पर लगी रोक तुरंत हटाई जाए।
भरत सिंह खटाणा ने कहा कि भाजपा सरकार श्रम कानूनों में बदलाव कर काम के घंटे आठ से बढ़ाकर 12 कर मजदूरों का शोषण करना चाहती है, लेकिन राष्ट्रीय स्तर पर किसान, मजदूर, कर्मचारी लामबंद होकर इन विनाशकारी नीतियों का डटकर विरोध करेगा। लॉकडाउन के चलते रोजगार को खत्म कर सरकारी महकमों को पूंजीपतियों के हवाले कर औने पौने दामों में बेचा जा रहा है तथा दिन रात संकट की घड़ी में काम करने वाले कर्मचारियों को नौकरी से निकाला जा रहा है। इस अन्याय को कर्मचारी किसी भी सूरत में सहन नहीं करेगा तथा हल्ला बोल प्रदर्शन में भाग लेगा। इस अवसर पर राजकुमार राघव, राकेश मलिक, ओम प्रकाश शेखावत, रामनिवास, बलवंत, राजबीर राठी, शकुंतला, सुनीता, पवन कुमार, अनिल, ओम प्रभा, शलेंद्र, नवीन, मोनू, मनोज आदि मौजूद थे।