रेहड़ी यूनियन ने मीटिंग कर पुलिस प्रशासन के प्रति जताया आक्रोश

  • सोशल डिस्टेंसिंग की पालन के बाद भी नहीं लगने दी जा रही रेहड़ियां

रेवाड़ी. शहर की सब्जी मंडी में गुरुवार को रेहड़ी यूनियन के प्रधान शंभुदयाल की अध्यक्षता में मीटिंग का आयोजन किया गया।
मीटिंग में शहर में रेहड़ी लगाने वालों ने प्रशासन से उनकी भी समस्या का समाधान करने की मांग करते हुए कहा कि उनके द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करते हुए रेहड़ियां लगाई जा रही है इसके बावजूद भी पुलिस उनको खड़े नहीं होने दे रही है।
भूखे मरने के कगार पर रेहड़ी और फल विक्रेता
मीटिंग में काफी संख्या में रेहड़ी वालों ने भाग लेते हुए कहा कि प्रशासन द्वारा दुकानदारों से लेकर हर वर्ग को राहत दी जा रही है लेकिन उन लोगों की तरफ कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है जो सड़कों के किनारे खड़े होकर अपनी रोजी-रोटी चलाते हैं। उन्‍होंने बताया कि लॉकडाउन के बाद से उन्होंने प्रशासन का हर स्तर पर सहयोग किया और इस अवधि में रेहड़ी भी नहीं लगाई।
अब चौथे लॉकडाउन में सभी को रियायत दी जा रही है इसलिए प्रशासन उनके बारे में भी सोचते हुए उनके लिए स्थिति साफ करें कि उन्हें रेहड़ी लगानी है अथवा नहीं है। मीटिंग में रेहड़ी वालों ने कहा कि मंडी में सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करते हुए उनकी तरफ से रेहड़ी लगाई गई थी जिसके बाद वहां पर पुलिस ने पहुंचकर उन्हें वहां से भगा दिया। लगातार लॉकडाउन की वजह से उनके सामने अब भूखे मरने की नौबत आ गई है।साथ ही प्रतिदिन उन्हें फल भी खरीदने पड़ रहे हैं जिनकी बिक्री नहीं होने से उन्हें नुकसान भी उठाना पड़ रहा है।