रिसर्च स्कॉलर ने 10 साल पुराने फ्रिज को डेढ़ हजार खर्च में बना दिया कोरोना किलर बाॅक्स

  • रोहतक के भरत काॅलोनी निवासी शोधार्थी का दावा: खाद्य सामग्री और बैंक नोट समेत बाहर से आने वाली हर सामग्री को

रोहतक. लॉकडाउन में शहर के भरत कॉलोनी निवासी आईआईटी रिसर्च स्काॅलर प्रतीक कलकल ने घर में रखे एक 10 साल पुराने फ्रिज काे माेडिफाई कर कोरोना किलर बॉक्स बनाया है। प्रतीक कलकल के अनुसार इस मार्केट से लाई खाद्य सामग्री सहित अन्य सामान को इस मोडिफाई फ्रिज के अंदर आधा घंटे पर ये सामान कोरोना वायरस के संक्रमण से मुक्त हो जाएगा। इस फ्रीज में लगाई अल्ट्रावॉयलेट जर्मीसाइडल रेडिएशन की किरणें सामान पर जमे कोरोना वायरस की संभावना को पूरी तरह से खत्म कर देंगी। मूलरूप से गद्दी खेड़ी गांव निवासी रिसर्च स्कॉलर प्रतीक ने बताया कि खाद्य सामग्री और बैंक नोट समेत बाहर से आने वाली हर सामग्री को इसमें डालकर संक्रमणमुक्त बनाया जा सकेगा। सेनिटाइज करने वाले इस मॉडल को तैयार करने में डेढ़ हजार रुपए का खर्च आया है।

254 नैनोमीटर की तीन ट्यूब से अल्ट्रावायलेट रेडिएशन पीपीई किट व मास्क करेगी सेनिटाइज: प्रतीक के बनाए मोडिफाई फ्रीज यानी किलर बाॅक्स में 254 नैनोमीटर की तीन अल्ट्रावायलेट सी कैटेगरी की ट्यूब लाइट लगाई हैं। फ्रीजनुमा बाॅक्स के अंदर के हिस्से में सिल्वर फॉइल पेपर लगाया गया है ताकि अल्ट्रावायलेट रेडिएशन का असर पूरी तरह से अंदर रखे सामान पर हो सके। सब्जी, नोटों की गड्डी, फोन, चाबी, चावल, चीनी, दवाएं, पीपीई किट और मास्क को स्कॉलर स्टूडेंट प्रतीक ने बताया कि इस मॉडल को तैयार करके ट्रायल किया जा चुका है। अभी उन्होंने मॉडल को बेचने के लिए कोई प्लान नहीं बनाया है। हालांकि उन्होंने 14 अप्रैल के करीब जिले के डीसी आरएस वर्मा को मॉडल के बारे में प्रस्ताव बनाकर ईमेल के जरिए भेजा था, लेकिन आज तक उनकी ओर से कोई जवाब नहीं आया। प्रतीक का कहना है कि यदि किसी को इसकी जरूरत पड़ती है तो वे इसे तैयार करके उपलब्ध करा सकते हैं।

बाहर से घर में लाए हर सामान को संक्रमण मुक्त करना जरूरी: प्रतीक के पिता जगबीर कलकल व मां सुनीता शिक्षक हैं। प्रतीक ने बताया कि लगातार रिसर्च में पाया जा रहा है कि कोरोना वायरस बीमारी से बचने के लिए जरूरी है कि हम जो भी सामान घर लाते हैं, उसे वायरस मुक्त कर लें। कोरोना वायरस सामान के साथ भी घर के अंदर भी पहुंच सकता है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस वैश्विक महामारी के खिलाफ जंग केवल सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने और घर से बाहर नहीं निकलने से ही नहीं जीती जा सकती है। आने वाले दिनों और हफ्तों में हर संभव चीज के साथ सतर्क रहना बहुत जरूरी हो जाएगा। इसी को ध्यान रखते हुए इस वायरस किलर बाॅक्स को बनाया गया है। जो हमारे घरों में उपयोग होने वाले किसी अलमारी की तरह दिखता है और इसे घर के प्रवेश द्वार पर ही रखा जाए ताकि बाहर से आने वाला सामान संक्रमणमुक्त करने के लिए इस फ्रीजनुमा बाक्स में अल्ट्रावायलेट किरणों से सेनिटाइज कर दिया जाए।

ऐसे काम करेगा किलर बॉक्स
सब्जी, फल, किराना सामान, बंद पैकेट, खाद्य पदार्थ रखे जा सकते हैं।
पर्स करेंसी, बेल्ट, घड़ी जैसी चीजें भी रखी जा सकती हैं।
सामान बॉक्स में डालकर और उसे बंद करते हुए यूवीसी लैंप ऑन करें।
30 मिनट के अंतराल के बाद लैंप बंद करना होता है।
10 मिनट के बाद बॉक्स को खोला जाता है।
इसके बाद विषाणु रहित सामान को बाहर निकाल कर यूज कर सकते हैं।