मंदिर के पुजारी ने की आत्महत्या, सुसाइड नोट के आधार पर छह लोगों पर केस दर्ज

  • लॉकडाउन की वजह से बेटा वापस घर नहीं ले जा सका तो कर ली आत्महत्या

रेवाड़ी. जिले के गांव भांडोर की ढाणी स्थित राधा-कृष्ण मंदिर के पुजारी ने बुधवार की रात को संदिग्ध परिस्थितियों में जहरीला पदार्थ खाकर आत्महत्या कर ली।
पुजारी के पास से पुलिस ने एक सुसाइड नोट भी बरामद किया है जिसमें उन्होंने मंदिर कमेटी से जुड़े सदस्यों के अलावा गांव के कुछ लोगों पर मंदिर में शराब पीकर आने के साथ उन्हें झूठे केस में फंसाने की धमकी देने का आरोप लगाया है।
सुसाइड नोट के आधार पर रामपुरा थाना पुलिस ने छह लोगों के खिलाफ आत्महत्या को मजबूर करने के आरोप में मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस ने फिलहाल शव का पोस्टमार्टम कराकर परिजनों को सौंप दिया है और एफएसएल रिपोर्ट के बाद इस मामले में काफी हद तक तस्वीर साफ हो पाएगी।

अलवर से पांच साल पहले आया था पुजारी

रामपुरा थाना पुलिस ने बताया कि गांव ढाणी भांडोर स्थित राधा-कृष्ण मंदिर की कमेटी की तरफ से जिला अलवर के मातोड़ी गांव निवासी 70 वर्षीय शिवदयाल को बतौर पुजारी रखा गया था। वे अपनी पत्नी के साथ पिछले पांच साल से इसी मंदिर में थे और उनके बच्चे गांव में रहते हैं। बुधवार की रात को करीब डेढ़ बजे पुजारी ने संदिग्ध हालात में किसी जहरीले पदार्थ का सेवन कर लिया जिसके बाद उनकी तबियत बिगड़ी तो उनकी पत्नी ने आसपास के लोगों को जगाया और शहर के ट्रामा सेंटर में पहुंचाया। यहां पर उपचार के दौरान पुजारी की मौत हो गई।
बेटे को कराया था अवगत कहा लॉकडाउन खुलने के बाद ले जाउंगा अपने घर
पुजारी द्वारा छोड़े गए सुसाइड नोट में उन्होंने आत्महत्या की वजह मंदिर में शराब पीकर आने वाले लोगों के साथ उनके द्वारा बार-बार किसी झूठे मामले में फंसाने की धमकी बताया है। सुसाइड नोट में कहा गया है कि कुछ लोग एक अन्य व्यक्ति के साथ मिलकर उन्हें इस मंदिर से निकालने का षड्यंत्र रच रहे थे जिसकी वजह से उन्हें लगातार परेशान किया जा रहा था। इसमें उन्होंने गांव व कमेटी से जुड़े 6 लोगों के नाम भी दिए हैं। साथ ही पुजारी ने यह भी लिखा है कि उन्होंने इस संबंध में अपने बेटे को अवगत कराया था जिसके बाद उसकी तरफ से कहा गया था कि लॉकडाउन के बाद उन्हें वापस अपने घर ले आएगा।

छह के खिलाफ दर्ज कर लिया है केस: आईओ महेंद्र सिंह

रामपुरा थाना पुलिस के जांच अधिकारी एएसआई एएसआई महेंद्र सिंह ने बताया कि बुजुर्ग पुजारी ने एक सुसाइड नोट भी छोड़ा है जिसमें उन्होंने मंदिर में शराब पीकर आने वाले लोगों द्वारा अभद्रता के साथ परेशान करने का आरोप लगाया है। साथ ही कमेटी से जुड़े कुछ सदस्य भी एक अन्य व्यक्ति से मिलकर उनको बार-बार धमकी देते थे। जांच अधिकारी ने बताया कि इस आधार पर छह के खिलाफ आत्महत्या का केस दर्ज कर लिया गया है।