अब बारिश से खराब हुए गेहूं के दानों का नुकसान केंद्र सरकार उठाएगी

  • हरियाणा के आग्रह पर केंद्र सरकार ने लिया ये फैसला
  • हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने दी जानकारी

सिरसा. अब प्रदेश के किसानों को बारिश की वजह से खराब हुए फसल के दाने (लस्टर लॉस) का नुकसान नहीं उठाना पड़ेगा, इस नुकसान की पूरी भरपाई केंद्र सरकार करेगी। प्रदेश सरकार के आग्रह पर शुक्रवार को केंद्र सरकार ने यह निर्णय लिया है। इसकी जानकारी प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने सिरसा में एक प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए दी।

उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि किसानों को बड़ी राहत देते हुए केंद्र सरकार ने आज यह फैसला लिया है कि बरसात के कारण खराब हुए फसल के दाने का नुकसान किसानों को नहीं होगा बल्कि इसकी भरपाई केंद्र सरकार करेगी। उन्होंने बताया कि कुछ दिनों पहले राज्य सरकार ने केंद्रीय खाद्य और आपूर्ति मंत्री रामविलास पासवान से यह मांग की थी कि लस्टर लॉस का नुकसान किसानों से न लिया जाए, जिसके बाद आज केंद्र ने लस्टर लॉस की भरपाई खुद करने का निर्णय लिया है।

करीब 60 लाख मीट्रिक टन गेहूं का हुआ उठान

किसानों की फसल खरीद, उठान व भुगतान के बारे में बताते हुए डिप्टी सीएम ने बताया कि अब तक प्रदेश में करीब 70 लाख मीट्रिक टन तक की गेहूं खरीद कर ली है तो वहीं करीब 60 लाख मीट्रिक टन गेहूं का उठान कार्य भी पूरा किया जा चुका है। साथ ही उन्होंने बताया कि सरकार ने गेहूं खरीद का करीब 9 हाजर करोड़ रूपये का भुगतान करते हुए आढ़तियों के खाते में पैसे डाल दिए है और इसमें से आगे 6270 करोड़ रूपये से ज्यादा किसानों के पास पहुंच गए है।