अब नई तकनीक एसबीआर टेक्नोलॉजी से बिछाई जाएगी लाइन, पहले विभाग बाईपास वाले एरिया में डालेगा

  • अब नई तकनीक एसबीआर टेक्नोलॉजी से बिछाई जाएगी लाइन, पहले विभाग बाईपास वाले एरिया में डालेगा

बहादुरगढ़. सरकार ने बेरी कस्बे के लोगों की सुविधा को देखते हुए 2 करोड़ 44 लाख रुपए की लागत से नई सीवर लाइन का कार्य चालू करवा दिया है। जनस्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने दावा किया है कि 10 साल पहले बिछाई गई सीवर की लाइन आक्सीडेशन तकनीक पर थी। अब नई तकनीक एसबीआर टेक्नॉलाेजी से बिछाई जाएगी। सीवर ट्रीटमेंट का पानी क्लोरीन होकर शुद्ध हो जाएगा और खेतों के लिए खाद भी तैयार किया जाएगा। जनस्वास्थ्य विभाग के एसई जगबीर मलिक, एक्सईन संजीव दूहन ने हर्बल पार्क से बैठान पाना के डिस्पोजल तक का कार्य आरम्भ करा दिया है। 2 करोड़ 44 लाख की लागत से लाइन बिछाई जाएगी जिसमें रिपेयर, पुराना टूटा और नई लाइन लगेगी। लगभग 8 किलोमीटर की नई लाइन होगी। जिन गलियों में सीवर लाइन नहीं बिछाई गई उनमें सिस्टम से लाइन बिछाई जाएगी। पहले विभाग बाईपास वाले एरिया में लाइन डालेगा।

12 साल पहले बिछाई सीवर लाइन की चल रही विजिलेंस जांच:

बेरी कस्बे में हुड्डा सरकार के कार्यकाल में 9900 मीटर की सीवर योजना काम चला था। इस योजना को 12 वर्ष बीत जाने के बाद बेरी कस्बे में केवल 100 कनेक्शन हुए हैं। लगभग तीन करोड़ से सीवर योजना तैयार की थी। दो डिस्पोजल के प्लांट भी लगवा रखे हैं। बेरी के सीवर योजना का तब सच सामने आया जब विभाग के चीफ इंजीनियर ने फील्ड की चेकिंग की तो पाया कि बेरी कस्बे में डाली गई सीवर लाइन में भारी गोलमाल है। इसकी जांच 2016 में मुख्यमंत्री ने स्टेट विजिलेंस से करवाने की मंजूरी दी थी।

जिन एरिया में सीवर सिस्टम फेल हुआ वहां बने सेफ्टी टैंक:

बेरी में जनस्वास्थ्य विभाग ने लोगों को सीवर सिस्टम से कनेक्शन लेने के लिए जागरूक कैंप लगाए और लोगों को बार-बार कहा कि सिवर सिस्टम से कनेक्शन ले जब लोगों ने कनेक्शन लिए तो थोड़े दिनों में सिस्टम जाम हो गया।