संक्रमण से बचने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने ओपीडी ब्लॉक का पीछे बनाया रास्ता

  • ओपीडी रूम की दीवार जो बिल्डिंग के पीछे के भाग में है उसे तोड़कर जाने-आने की व्यवस्था की

बहादुरगढ़. कोरोना वायरस से स्वास्थ्य विभाग के स्टाफ को बचाने और आने वाले मरीजों की भी सुरक्षा के लिए विभाग ने अब सिविल अस्पताल के ओपीडी ब्लॉक में भी लॉकडाउन कर दिया है। लिहाजा यहां ओपीडी रूम में मरीजों के दाखिल होने और बाहर निकलने की व्यवस्था अलग से कर दी गई है। इससे अब ओपीडी ब्लॉक के गलियारे में पहले की तरह मरीज और उनके तीमारदारों की भीड़ नजर नहीं आती। पहला लॉकडाउन लगते ही स्वास्थ्य विभाग ने कुछ चुनिंदा ओपीडी को छोड़कर बाकी सभी ओपीडी बंद कर दी थी। अब लॉकडाउन के तीसरे चरण से सभी ओपीडी फिर से शुरू हो गई हैं। हालांकि कोरोना वायरस की भी सुरक्षा को देखते हुए सिविल अस्पताल प्रशासन ने ओपीडी ब्लॉक में भी लॉकडाउन कर दिया है। इसके चलते ओपीडी रूम के बाहर मरीजों को नहीं बैठने दिया जा रहा जबकि उनके बैठने की व्यवस्था ओपीडी ब्लॉक के बाहर छांव में बेंच लगाकर की गई है।

अब पहले की तरह किसी भी ओपीडी रूम के बाहर मरीजों को नहीं बैठने दिया जा रहा। ओपीडी में जाने के लिए ओपीडी ब्लॉक में आने की जरूरत मरीजों व उनके तीमारदारों को न पड़े इसकी भी व्यवस्था कर दी गई है। इसके लिए ओपीडी रूम की दीवार जो बिल्डिंग के पीछे के भाग में है वहां दीवार को तोड़कर अंदर जाने और आने की व्यवस्था की गई है। इसी प्रकार जहां पीछे की ओर पहले से ही खिड़की और दरवाजे थे उनको ओपन कर दिया गया है और ओपीडी के मेन दरवाजे को बंद करके अवरोध लगा दिया गया है। ताकि किसी भी मरीज को अस्पताल के अंदर घुसने की जरूरत महसूस न हो। लॉकडाउन से काफी पहले ही नई व्यवस्था के तहत जगह की कमी होने के कारण अस्पताल प्रबंधन ने दवा खिड़की और रोगी स्लिप काउंटर बाहर की ओर शुरू कर दिए थे। इसी प्रकार एक्स-रे रूम भी बाहर हैं। ऐसे में इन रोगी सेवाओं के लिए मरीजों को अस्पताल के अंदर प्रवेश नहीं होना पड़ रहा।