टिड्‌डी दल का कहर: हरियाणा में आ सकता है टिड्‌डी दल, विभाग अलर्ट

भिवानी. जिले की सीमा में टिड्डी दल के प्रवेश को रोकने व फसलों को बचाने के लिए प्रशासन ने 9 नोडल अधिकारी नियुक्त कर किसानों से धुंआ करने, ड्रम व पीपा बजाने की अपील की है। रात के समय टिड्डी दल के घुसने पर फसलों पर क्लोरोपाइरीफॉस दवाई का छिड़काव करने की सलाह दी है। बुधवार को डीसी अजय कुमार ने कैंप कार्यालय में बैठक ले अधिकारियों को जरूरी निर्देश दिए और टिड्डी दल के हरियाणा में प्रवेश की संभावना की समीक्षा भी की है। टिड्डी दल राजस्थान के नीम का थाना क्षेत्र में प्रवेश कर चुका है और आशंका जताई जा रही है यह दल लोहारू की सीमा से हरियाणा में भी प्रवेश कर सकता है।
बनाया गया है नियंत्रण कक्ष: टिड्डी दल के बारे में सूचना देने के लिए जिला मुख्यालय पर कृषि विभाग के कार्यालय में नियंत्रण कक्ष स्थापित किया गया है। टिड्डी दल के बारे में किसान उप मंडल कृषि अधिकारी भिवानी-9416082253, उपमंडल कृषि अधिकारी लोहारू-9050963170, उप मंडल कृषि अधिकारी सिवानी-9896206159 तथा सहायक पौधा संरक्षण अधिकारी भिवानी के फोन नंबर 9466746306 पर सूचित कर सकते हैं।

बचाव को लेकर ये बनाई गई हैं टीमें
जिलाभर में अलग-अलग टीमों का गठन किया गया है, इसमें उपमंडल कृषि अधिकारी को नोडल अधिकारी बनाया गया है। 
 खंड भिवानी में खंड कृषि अधिकारी विरेंद्र सिंह- 9991038048 तथा उप मंडल कृषि अधिकारी सतबीर शर्मा-9992020973 को नोडल अधिकारी बनाया गया है।
बवानीखेड़ा ब्लॉक में खंड कृषि अधिकारी कुलदीप सिंह-9416856247 तथा सतबीर शर्मा को ही नोडल अधिकारी बनाया गया है।
तोशाम ब्लॉक में खंड कृषि अधिकारी संजय कुमार- 8950488352 व सतबीर शर्मा को नोडल अधिकारी बनाया है।
 कैरू ब्लॉक में संजय कुमार व सतबीर शर्मा को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है।
लोहारू खंड में खंड कृषि अधिकारी रणसिंह- 9416985398 तथा उप मंडल कृषि अधिकारी ईश्वर सिंह- 9050963170 को नोडल अधिकारी बनाया गया है।
खंड बहल में सुरेंद्र सिंह खंड कृषि अधिकारी-941633908 तथा ईश्वर सिंह को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है।
सिवानी खंड में खंड कृषि अधिकारी जगरूप – 8929619984 को  तथा उपमंडल कृषि अधिकारी सुखदेव को-9416779609 को नोडल अधिकारी बनाया गया है। 

डीसी अजय कुमार ने बताया कि कृषि व राजस्व विभाग के अधिकारियों को आपसी सामंजस्य के साथ कार्य करने के निर्देश दिए हैं। जहां भी टिड्डी दल के प्रवेश की सूचना मिले, विभाग तुरंत जरूरी कार्रवाई करे। बैठक में कृषि विभाग के उप निदेशक डॉ. प्रताप सिंह सभ्रवाल ने बताया कि जिला में प्रत्येक गांव स्तर पर कमेटियों का गठन किया गया है। धुंआ व ड्रम बजाकर भी टिड्डी दल से बचा जा सकता है। क्लोरोपाइरीफॉस दवाई रखवा दी गई है।