झज्जर, बादली व बेरी उपमंडल से 548 श्रमिकों को भेजा एमपी, उत्साहित प्रवासियों ने जताया सरकार का आभार

  • लॉकडाउन में प्रवासी श्रमिकों को गृह जिलों में निरंतर शेड्यूल अनुसार भेजा जा रहा है, भेजने से पहले सभी का थर्मल स्केनिंग से स्वास्थ्य जांचा गया

बहादुरगढ़. कोविड-19 लॉकडाउन में प्रवासी श्रमिकों को गृह जिलों में निरंतर शेड्यूल अनुसार जिला प्रशासन की ओर से भेजा जा रहा है। बुधवार को झज्जर, बादली व बेरी उपमंडल के अंतर्गत कुल 16 रोडवेज बसों से 548 प्रवासी श्रमिकों को मध्यप्रदेश जाने वाली स्पेशल श्रमिक ट्रेन हेतु गुरूग्राम रेलवे स्टेशन के लिए रवाना किया गया। जिला मुख्यालय व बेरी उपमंडल मुख्यालय से सभी बसें प्रवासी श्रमिकों को लेकर गुरूग्राम के लिए रवाना हुई। जिला मुख्यालय पर एसडीएम शिखा व बादली एसडीएम विशाल कुमार तथा बेरी में एसडीएम डाॅ. राहुल नरवाल की देखरेख में सभी बसें प्रवासी श्रमिकों को बैठाकर गुरूग्राम के लिए रवाना हुई। नोडल अधिकारी एवं सीटीएम डाॅ. सुभिता ढाका ने बताया कि झज्जर उपमंडल के 426 प्रवासी श्रमिकों को 12 रोडवेज बसों में, बादली उपमंडल के 60 प्रवासी श्रमिकों को 2 बसों से तथा बेरी उपमंडल के 62 प्रवासी श्रमिकों को 2 रोडवेज बसों में भेजने की व्यवस्था जिला प्रशासन की ओर से की गई है।

बुधवार को राजकीय नेहरू महाविद्यालय परिसर में प्रवासी श्रमिकों के स्वास्थ्य की जांच उपरांत पूरा रिकाॅर्ड तैयार करते हुए एसडीएम शिखा व एसडीएम बादली विशाल कुमार की देखरेख में बसें गुरूग्राम की ओर रवाना हुई। वहीं बेरी में एसडीएम डाॅ. राहुल नरवाल ने निर्धारित नियमों के अनुरूप सभी प्रवासी श्रमिकों को बस के माध्यम से गुरूग्राम रेलवे स्टेशन के लिए रवाना किया। अस्थाई शेल्टर होम में प्रवासी श्रमिकों को रात्रि भोजन के साथ ही सुबह का नाश्ता जिला प्रशासन की ओर से करवाया गया। वहीं सभी को मास्क, पानी की बोतल व बिस्कुट के पैकेट देते हुए उन्हें गंतव्य की ओर रवाना किया गया। रोडवेज बसों में अपने गृह जिलों में जाने के लिए उत्साहित हुए प्रवासी श्रमिकों ने जिला प्रशासन की ओर से उन्हें भेजने के लिए उठाए कदमों सहित ठहराव की व्यवस्था करने के लिए खुशी जताई। साथ ही हरियाणा सरकार द्वारा उनकी यात्रा निशुल्क कराते हुए सरकार के प्रति आभार व्यक्त किया।