जींद में प्रदेश का पहला 1.2 मेगावाट क्षमता का बायोगैस आधारित पावर प्लांट शुरू

  • 14 करोड़ रुपए की लागत से मोरखी गांव में किया गया है तैयार

पानीपत. जींद जिले के गांव मोरखी में लगभग 14 करोड़ रुपए की लागत से राज्य का पहला ग्रिड से जुड़ा 1.2 मेगावाट क्षमता का बायोगैस आधारित पावर प्लांट चालू किया गया है। प्लांट में 85 लाख यूनिट हर साल बिजली उत्पादन होगा। बिजली और नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री रणजीत सिंह ने बताया कि प्लांट की स्थापना मैसर्ज मोर बायो एनर्जी ने की है। यहां से बनने वाली बिजली की खरीद हरियाणा बिजली नियामक आयोग द्वारा तय की जाने वाली दर पर हरियाणा बिजली खरीद केंद्र द्वारा की जाएगी।

बिजली और नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा विभाग की संयुक्त टीम द्वारा गांव मोरखी में स्थापित इस बायोगैस आधारित पावर प्लांट का 80 प्रतिशत क्षमता के साथ 11 से 15 मार्च,2020 तक तीन दिवसीय ट्रायल किया गया। इस प्लांट में बिजली उत्पादन के लिए मुख्य रूप से पोल्ट्री के कचरे और गोबर का इस्तेमाल किया जाएगा। इसमें 180 टन प्रतिदिन जैविक कचरे की खपत होगी।