जिले के 3 कोरोना संक्रमितों की रिपोर्ट आई निगेटिव, ठीक हो घर पहुंचे

  • काेराेना से जंग जीत रहे हम : पीजीआई में बेहतर उपचार के संक्रमण पर काबू पाने का सिलसिला

रोहतक. जिला स्वास्थ्य कार्यालय और पीजीआई के चिकित्सकों के लिए बुधवार का दिन राहत भरा रहा। शिव कॉलोनी निवासी कैंसर पीड़ित की 59 वर्षीय कोरोना संक्रमित पत्नी की 13 दिन, सब्जी मंडी में काम करने वाले श्रमिक की सात और पीजीआई में आउटसोर्सिंग में कार्यरत रुड़की निवासी एंबुलेंस चालक की पांच दिन में कोरोना सैंपल रिपोर्ट निगेटिव आई। चिकित्सकों ने तीनों मरीजों के संक्रमणमुक्त होने पर उन्हें आइसोलेशन वार्ड से छुट्टी देकर घर भेज दिया गया। वहीं झज्जर के 18, जींद के दो और गुरुग्राम के एक मरीज की भी रिपोर्ट निगेटिव आने पर उन्हें डिस्चार्ज कर दिया गया। मरीजों के स्वस्थ होकर घर जाने पर वार्ड के स्टाफ और चिकित्सकों ने खुशी महसूस की। शिव कालोनी निवासी कैंसर पीड़ित मरीज की पत्नी में आठ मई, सब्जी मंडी के श्रमिक में 14 मई और रुड़की गांव निवासी एंबुलेंस चालक में 16 मई को आई सैंपल रिपोर्ट में कोरोना संक्रमण पाया गया था

हेल्थ टीम ने जिले से 200 लोगों के सैंपल लिए
12 मई को दिल्ली में ड्यूटी के दौरान संक्रमित हुई जनता कालोनी निवासी महिला एएनएम का कोविड 19 सेंटर में इलाज किया जा रहा है। चिकित्सकों के अनुसार महिला एएनएम की हालत में सुधार है। हेल्थ यूनिवर्सिटी के जनसंपर्क अधिकारी डॉ. वरुण अरोड़ा ने बताया कि पीजीआई के आइसोलेशन वार्ड में 35 मरीज भर्ती हैं जिनमें 25 कोरोना पॉजीटिव मरीज हैं और सात की सैंपल रिपोर्ट आने का इंतजार किया जा रहा है। वहीं कोविड 19 के जिला नोडल अधिकारी डॉ. सत्यवान ने बताया कि कंटेनमेंट जाेन और बफर जोन सहित पूरे जिले भर में हेल्थ टीम ने 200 लोगों के सैंपल एकत्रित कर पीजीआई की लैब में जांच के लिए भेजे गए हैं।

मेडिकल स्टाफ को 14 के बजाए सात दिन क्वाॅरेंटाइन रखने का दिया प्रस्ताव

नर्सिंग सुपरीटेंडेंट ने पीजीआई के एमएस को पत्र लिखकर स्टाफ के क्वारेंटाइन की समयावधि 14 से घटाकर सात दिन करने को कहा है। वार्ड 24, 25 और 26, कोविड अस्पताल व सी ब्लॉक में कार्यरत स्टाफ की कार्य अवधि पहले की तरह रहेगा। इस दौरान ड्यूटी के बाद स्टाफ 14 के बजाए केवल सात दिन के लिए क्वारेंटाइन किया जाएगा और गाइडलाइंस के अनुसार कर्मचारियों की कोविड जांच कराई जाएगी। वहीं कैथल के मरीज के अस्पताल से फरार होने के बाद मेडिसिन विभाग की यूनिट सात के चिकित्सकों सहित 11 स्टाफ मेंबर्स को वार्ड नंबर सात में क्वारेंटाइन कर दिया गया है।
दो दिन में गुरुग्राम के तीन मरीजों की मौत, कबीर कालोनी में दो को दफनाया गया
पीजीआई में दो दिन के अंतराल में गुरुग्राम के तीन मरीजों की मौत होने के बाद से चिकित्सकों में हड़कंप मचा हुआ है। हेल्थ यूनिवर्सिटी के जनसंपर्क अधिकारी डॉ. वरुण अरोड़ा ने बताया कि दो मृतक वर्ग विशेष के हैं। नगर निगम की टीम ने कोरोना 19 से संबंधित गाइडलाइंस को फॉलो करते हुए वर्ग विशेष के दोनों मृतकों को कबीर कॉलोनी स्थित ईदगाह में दफनाया गया और एक मृतक का अंतिम संस्कार वैश्य श्मशान घाट पर किया गया। बुधवार सुबह साढ़े चार बजे गुरुग्राम के तीसरे संक्रमित युवक की मौत हो गई।