2 माह बाद 22 मई से खुलेगी सैनिक कैंटीन

  • आज से सुबह 10 से शाम 4 बजे तक दो नंबरों पर की जा सकेगी बुकिंग

जींद. सेवानिवृत्त सैनिकों के लिए बनाई गई कैंटीन दो माह बाद 22 मई से खुल जाएगी। कैंटीन से ग्रोसरी (करियाना) का सामान व शराब लेने के लिए कार्ड धारकों को पहले टोकन लेना होगा। इसके लिए 20 मई यानी गुरुवार से बुकिंग का काम शुरू हो जाएगा। प्रतिदिन केवल 80 टोकन ही दिए जाएंगे। बिना टोकन के कैंटीन में प्रवेश करने नहीं दिया जाएगा। टोकन लेने के लिए कैंटीन के लैंडलाइन व अन्य मोबाइल नंबर पर संपर्क किया जा सकेगा।
अब सरकार द्वारा दी गई छूट के बाद कैंटीन को 22 मई से खोला जाएगा। इसकी तैयारी शुरू कर दी गई हैं। सैनिक कैंटीन में 2 गज की दूरी पर घेरे बनाए गए हैं। इनमें खड़े होकर ही सामान दिया जाएगा। इसके अलावा कैंटीन के अंदर आने के लिए कार्ड धारकों को हाथ सेनिटाइज से धुलवाए जाएंगे। इसके अलावा थर्मल स्क्रीनिंग भी की जाएगी। इसके बाद ग्राहकों को सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए वेटिंग एरिया में बैठाया जाएगा। सभी ग्राहकों को मास्क लगवाना अनिवार्य होगा।

65 साल से ऊपर वालों को मिलेगी छूट

कैंटीन की तरफ से 65 साल से ऊपर वाले पूर्व कर्मियों को राहत दी गई है। वह अपने परिवार के किसी सदस्य को अपना आधार कार्ड या राशन कार्ड देकर सामान लेने के लिए भेज सकेंगे।

^ग्राहकों की सुविधा के लिए 22 मई से कैंटीन शुरू की जा रही है। गुरुवार से टोकन मिलने शुरू हो जाएंगे। ग्राहक टोकन बुकिंग के समय बताए हुए टाइम स्लॉट पर ही पहुंचे ताकि भीड़ न हो और स्टाफ को परेशानी न उठानी पड़े। कर्नल ओमप्रकाश, कैंटीन मैनेजर।

करियाना सामान व शराब के लिए कार्ड धारकों को पहले लेना होगा टोकन, प्रतिदिन 80 लोग ही ले सकेंगे सामान

इन हिदायतों का करना होगा पालन

{मुख्य गेट पर कैंटीन में प्रवेश के लिए कार्ड धारक को टोकन नंबर, आर्मी नंबर, पद व नाम बताना होगा। कर्मचारी सेनिटाइज व थर्मल स्क्रीनिंग करेंगे।
{कैंटीन में सामान की बिक्री सुबह 9 से दोपहर 2 बजे तक होगी। सिर्फ टोकन धारकों को प्रवेश।
{वाहनों को प्रवेश नहीं दिया जाएगा। इन्हें बस स्टैंड की तरफ या मेन सड़क पर खड़ा करना होगा।
{एक ग्राहक के बाहर आन के बाद क्रम के हिसाब से अंदर जाएगा।
{एडीएलआरएस व नए कार्ड बनवाने के लिए सिर्फ बुधवार व शुक्रवार को दोपहर 2 से 4 बजे तक अनुमति दी गई है।