यमुना के साथ दिल्ली को जोड़ते हुए दहिसरा से मीमारपुर घाट तक बनेगी 22 किमी लंबी व 7 मीटर चौड़ी सड़क, प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार करने के निर्देश

  • दिल्ली जाने के लिए यमुना नदी के साथ लगते 30 से अधिक गांवों के लोगों को जीटी रोड के जाम से मिलेगी मुक्ति

सोनीपत. विधायक मोहन लाल बड़ौली ने कहा कि यमुना के किनारे एक सात मीटर की सड़क का प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है। यह सड़क मीमारपुर से शुरू होकर और दिल्ली बार्डर स्थित दहिसरा गांव तक प्रस्तावित है। इस सडक़ के निर्माण से संबंधित कंसलटेंसी अप्रूवल हरियाणा सरकार द्वारा प्रदान की गई है। कंसलटेंसी कंपनी डीपीआर तैयार कर हरियाणा स्टेट रोड डेवलेपमेंट कार्पोरेशन (एचएसआरडीसी) को सौंपी और विभाग से यह रिपोर्ट सरकार को भेजी जाएगी और इसके बाद सरकार द्वारा बजट का प्रावधान कर सडक़ निर्माण कार्य शुरू होगा।
विधायक मोहनलाल बड़ौली ने बताया कि दहिसरा बांध से दिल्ली तक दिल्ली सरकार ने यमुना नदी के साथ- साथ सात मीटर चौड़ी सड़क बना रखी है। इस प्रोजेक्ट को विधायक अपने विधानसभा क्षेत्र में भी विस्तार करने की प्लानिंग कर रहे हैं। उनका प्रयास दहिसरा से लेकर मीमारपुर घाट तक करीब 22 किलोमीटर लंबी व सात मीटर चौड़ी सड़क बनाना है। विधायक ने कहा कि इस सड़क के बनने से यमुना नदी के साथ- साथ बसे गांव वालों को दिल्ली जाने के लिए पहले जीटी रोड पर नहीं जाना पड़ेगा। वे सीधे यमुना बांध की सड़क से ही दिल्ली में प्रवेश कर जाएंगे। इससे वे जीटी रोड के जाम से बचेंगे और उनके समय की बचत भी होगी। बड़ौली ने कहा कि उनका प्रयास आखिरी छौर तक विकास करना है। उन्होंने चुनाव जीतने से पहले ही अपने पांच साल के विकास कार्यों का विजन तैयार कर लिया था। सरकार ने भी इस प्रोजेक्ट की रिपोर्ट तैयार करने की मंजूरी दे दी है।
विधायक मोहनलाल बड़ौली ने कहा कि जब वे पार्टी संगठन के लिए काम करते थेे तो दहिसरा लेकर मीमारपुर घाट तक के सभी गांवों में प्रचार के लिए जाते थे। करीब 15 साल पहले जब वे दहिसरा गांव में आए थे तो उनके मन में एक विचार आया था यदि कभी भगवान ने विधायक बनाया तो सबसे पहले यमुना नदी के साथ- साथ एक सड़क का निर्माण कार्य कराया जाएगा। जिससे यमुना नदी के साथ- साथ बसे गांवों के लोगों को दिल्ली जाने के लिए जीटी रोड पर न चढ़ना पड़े। यहां के लोगों के लिए जीटी रोड से कम दूरी पर दिल्ली है। कई गांव तो ऐसे हैं जहां से जीटी रोड की दूरी ज्यादा है। यदि उन्हें दिल्ली जाने के लिए सीधा रास्ता मिले तो वे जल्दी दिल्ली पहुंच सकते हैं।

एनसीआर प्लानिंग बोर्ड के तहत बनेगी सड़क

एचएसआरडीसी के डीजीएम पंकज गौड ने बताया कि सरकार द्वारा कंस्लटेंसी अप्रूवल के बाद अब अगले दो से तीन दिन में एजेंसी के लिए टेंडर आमंत्रित कर लिया जाएगा। जो कंपनी टेंडर लेगी वह डीपीआर (डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट) तैयार कर सरकार को देगी। इसके बाद सरकार एनसीआर प्लानिंग बोर्ड अथवा सोर्स के माध्यम से बजट अलॉट कर इस सडक़ का निर्माण कार्य शुरू करेगी।