बंद काम धंधों में भी बिजली बिल भेज रही सरकार, हुड्डा बोले- ऐसे समय तो 300 यूनिट बिजली फ्री देनी चाहिए थी

  • पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने हरियाणा सरकार पर सैकड़ों भर्तियां कैंसल करने का लगाया आरोप
  • किसानों की फसल खरीद के बावजूद उनकी पेमेंट में हो रही देरी पर सरकार को लिया आड़े हाथों

चंडीगढ़. हरियाणा के पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि एक तरफ तो लोगों के काम धंधे बंद पड़े हैं लेकिन दूसरी तरफ हरियाणा सरकार एवरेज के हिसाब से उनके बिजली बिल भेज रही है। सरकार को कम से कम 300 यूनिट बिजली फ्री देनी चाहिए थी। इसके लिए उन्होंने सरकार को सिफारिश भी की थी। हुड्डा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मीडिया को संबोधित कर रहे थे।

भूजल संरक्षण के लिए नई परियोजनाओं की बंदिशे किसान पर थोप रही सरकार

  • भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा है कि भूजल संरक्षण के लिए नई परियोजनाएं चलाने की बजाए किसानों पर बंदिशें थोपी जा रही हैं। किसान सरकार की धान बुआई पर लगाई गई बंदिशों को मानने के लिए तैयार नहीं है। वो अगर अपनी मर्जी से धान या दूसरी कोई भी फसल लगाने का फैसला करता है, तो कांग्रेस उसका समर्थन करेगी। सरकार को भूजल संरक्षण की योजनाओं के प्रति सकारात्मक रुख़ अपनाते हुए उन्हें आगे बढ़ाना चाहिए। उसे डीएसआर पद्धति और हाईब्रिड बीजों से धान की खेती को बढ़ावा देना चाहिए। इससे कम वक्त और कम पानी में धान की अच्छी फसल ली जा सकती है।

  • उन्होंने कहा सरकार 7500 करोड़ रुपए पेमेंट का दावा करती है। जबकि खरीद के मुताबिक किसानों की कुल पेमेंट 13500 करोड़ बनती है। हालांकि सरकारी आकंड़े कहते हैं कि सरकार ने अबतक सिर्फ 27 लाख मीट्रिक टन गेहूं के लिए 5231 हज़ार रुपए का ही भुगतान किया है। इसलिए सरकार को पेमेंट की प्रक्रिया में तेज़ी लानी चाहिए। हुड्डा ने 1530 भर्तियों के रद्द करने की सिफारिश पर भी आपत्ति जताई। ऐसा करने से प्रदेश का युवा निराश होगा। इन भर्तियों को जल्द पूरा किया जाए।