9 दिन बाद दाे पाॅजिटिव केस, मुंबई से पानीपत लौटे तीन में से दाे युवक मिले कोरोना संक्रमित

  • छोटूराम चौक और हाली कॉलोनी के रहने वाले युवक 15 मई को मुंबई से आए थे
  • 4032 श्रमिकों को 95 रोडवेज बसों में बागपत और शामली भेजा

पानीपत. जिले में एक बार फिर काेराेनावायरस ने दस्तक दे दी है। 9 दिन के बाद एक साथ दाे पाॅजिटिव केस मिले हैं। एक केस छाेटूराम चौक और एक केस हाली कॉलोनी से है। एक युवक 28 साल और दूसरा 22 साल का है। दाेनाें एक साथ 15 मई काे ही मुंबई से लाैटे थे। विभाग ने सैंपल लेकर हाेम क्वारेंटाइन कर दिया था, क्याेंकि दाेनाें में काेई लक्षण नहीं थे। वहीं इनके साथ तीसरा युवक भी साथ में लाैटा था, उसके सैंपल की रिपाेर्ट निगेटिव मिली है, लेकिन उसकाे फिलहाल स्वास्थ्य विभाग ने अाइसाेलेशन वार्ड में एडमिट कर लिया है। उसका एक बार फिर सैंपल लिया जाएगा। दाेनाें पाॅजिटिव युवकाें काे खानपुर भेजा है।

मुंबई में करते हैं काम

नाेडल अधिकारी एवं डिप्टी सीएमओ डाॅ. सुनील संडूजा ने बताया कि ये मुंबई से तीन युवक 15 मई काे पानीपत पहुंचे थे। इसमें की दाे की रिपाेर्ट पाॅजिटिव और एक की रिपाेर्ट निगेटिव आई है। इसमें छाेटू राम चौक निवासी 28 वर्षीय युवक व हाली कॉलोनी का 22 वर्षीय युवक मुंबई में एक निजी कंपनी में काम करते थे। ये लॉकडाउन के दौरान वहीं पर फंस गए थे। लॉकडाउन थ्री में कुछ राहत मिलने के बाद ये कई निजी वाहनाें का सहारा लेकर पानीपत पहुंचे। परिजनों के आग्रह पर अस्पताल लाया गया था।

मामले आने के बाद बना कंटेनमेंट प्लान

अर्बन नाेडल अधिकारी डाॅ. मनीष पाशी ने बताया कि हाली काॅलाेनी और छाेटू राम काॅलाेनी में शाम तक कंटेनमेंट जाेन बना दिया है। पुलिस का पहरा भी लगवा दिया है। दाेनाें पाॅजिटिव केस के परिवार व संपर्क में आए करीब 28 लाेगाें काे विभाग ने अपने अंडर लिया है। इन सबके सैंपल कराए जाएंगे। वहीं साेमवार सुबह से दाेनाें एरिया में लाेगाें की स्क्रीनिंग की जाएगी।
अब 4 हुए एक्टिव केस
सीएमओ डाॅ. संतलाल वर्मा ने बताया कि रविवार को दो और कोरोना पॉजिटिव केसों की पुष्टि हुई है। दाेनाें 15 मई को मुंबई से पानीपत पहुंचे थे। इन दाेनाें काे मिलाकर 4 केस काेराेना के एक्टिव केस हाे गए हैं। वहीं एक केस यहां से भाग चुका है, जिसका जयपुर में इलाज चल रहा है। वहीं कुल केस अब 38 हाे गए हैं।

पानीपत के आर्य कॉलेज के मैदान में वे श्रमिक हैं जिन्हें बसों के जरिए उनके प्रदेश भेजा जा रहा है। लेकिन इनकी ऐसी भीड़ वाली विदाई इनके और हमारे लिए ठीक नहीं है। क्योंकि अगर इनमें से किसी को भी कोरोना वायरस हुआ तो वह सैकड़ों की संक्रमित कर देगा। प्रशासन को इस तरफ ध्यान देकर यहां डिस्टेंसिंग का सिस्टम बनाना चाहिए ताकि सभी सुरक्षित रहें। वायरस हार जाए।

एक बस में बैठाए 30-40 यात्री: रोडवेज ने एक बस में 30 से 40 यात्रियों को बिठाया। 4032 श्रमिकों को 95 रोडवेज बसों में बागपत और शामली भेजा