बेटे ने पिता के 12.41 लाख रु. चुराए, 500-500 रुपये पैदल जा रहे श्रमिकों में बांटे

अम्बाला. हरियाणा के अंबाला जिले में पिता के पैसे चुराने वाले बेटे को पुलिस ने गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है. आरोपी बेटा अपने पिता के 12 लाख 41 हजार रुपये लेकर फरार हो गया था. जब पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया तो वो उनके सामने रो पड़ा और अपने पिता को बुलाने की बात कहने लगा. जब उसके पिता पुलिस थाने पहुंचे तो वो बोला प्लीज डैडी मुझे छुड़वा लो. इस दौरान पिता ने कहा कि वो अपने बेटे के साथ अपराधी के जैसा बर्ताव करे ताकि वो दोबारा ऐसी गलती न करे. पुलिस पूछताछ में आऱोपी ने बताया की उसने ये पैसे कहां-कहां खर्च किए.
आरोपी गुरदेव सिंह ने बताया कि उसने इन पैसों में से 2 लाख की पुरानी ऑल्टो कार खरीदी, 20 हजार कार की सर्विस पर खर्च किए और 15 हजार रुपए एसडीएम कार्यालय से एक दिन में आरसी बनवाने के लिए दलाल को दिए. 2.31 लाख रुपए उसने बुआ की बेटी को दिए और 8 हजार रुपए की महंगी शराब पी. वहीं इस दौरान पैदल लौट रहे प्रवासी श्रमिकों पर तरस खाकर 500-500 के नोट उन्हें बांट दिए.
घर बनाने के लिए रखे थे पैसे
सीआईए नारायणगढ़ के इंचार्ज ने कहा कि आरोपी ने कबूला है कि चोरी के पैसों से गांव थम्बड़ से कार खरीदी थी. जिसके बाद 20 हजार सर्विस पर खर्च किए. एसडीएम कार्यालय से एक दिन में आरसी बनवाने के लिए दलाल को भी 15 हजार दिए थे, जिसके चलते एसडीएम कार्यालय बराड़ा से आरसी उसके नाम ट्रांसफर हुई है. पुलिस अभी तक सवा 5 लाख रुपए तक के हिसाब किताब तक पहुंची है. अभी सीआईए आरोपी को लेकर काला अम्ब में पैसे की रिकवरी के लिए भी छापेमारी करेगी. इसके अलावा गुरदेव के कुछ साथियों से भी पूछताछ होगी ताकि पूरी डिटेल ली जा सके. आरोपी बेटे के पिता ने बताया कि उसने ये पैसे घर बनाने के लिए रखे थे. 12 मई को वो ट्रैक्टर पर टायर चढ़वाने के लिए यमुनानगर गए थे. इस दौरान पीछे से उनका बेटा घर में रखे 12.41 लाख रुपये चुरा कर ले गया. अगले दिन उनकी भांजी 2.31 लाख रुपए यह कहकर लौटा गई कि गुरदेव ये पैसे दे गया था. जिसके बाद उसे पता चला की ये पैसे उसके बेटे ने ही चुराए हैं.