कैंट से चली चौथी श्रमिक स्पेशल ट्रेन, 1296 प्रवासी रवाना

  • अब तक 4992 यात्री हो चुके कैंट स्टेशन से रवाना

अम्बाला. कैंट रेलवे से भागलपुर के लिए चलाई गई चौथी श्रमिक स्पेशल ट्रेन को जिला प्रशासन व रेलवे द्वारा तालियों की गड़गड़ाहट और वंदे मातरम के जयकारों लगाकर रवाना किया गया। शाम 4 बजे 3 नंबर प्लेटफार्म से रवाना हुई ट्रेन में 1296 श्रमिक सवार थे। इनमें अम्बाला से 693, यमुनानगर से 398 व पंचकूला से 205 प्रवासी श्रमिक शामिल हैं।
मंगलवार सुबह से ही श्रमिकों को कैंट बस स्टैंड पर लाया गया जबकि अम्बाला के श्रमिकों को शेल्टर होम से लाकर एसडी काॅलेज में इकट्ठा किया गया। यहां पर उन्हें टोकन नंबर प्रदान करने के बाद जूस की बोतलें भी वितरित की गई। इसके बाद श्रमिकों को 10 बसों में रेलवे स्टेशन ले जाया गया। इसी तरह अन्य जिलों से आई बसों को पहले बस स्टैंड लाया गया जिसके बाद टोकन नंबर प्रदान कर श्रमिकों को रेलवे स्टेशन बसों में भेजा गया। स्टेशन पर श्रमिकों की थर्मल स्कैनिंग हुई जिसके बाद उन्हें टिकट थमाए गए। यात्रा से पहले श्रमिकों को रेलवे स्टेशन पर पानी की बोतल, खाने के पैकेट, सेनिटाइजर, मास्क भी प्रदान किए गए। कुल 1296 श्रमिकों में 12 बच्चे भी शामिल हैं। इस दौरान डीसी अशोक कुमार ने बताया कि इससे पहले जो 3 स्पेशल ट्रेन कैंट से चलाई गई वह भागलपुर, कटिहार व मुज्जफरपुर के लिए भेजी गई थी। अब आगामी 21 मई को कैंट रेलवे स्टेशन से मुज्जफरपुर व 22 मई को कटिहार के लिए श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाई जाएगी। इस अवसर पर प्रदेश सरकार की ओर से स्टेट नोडल आफिसर कैप्टन शक्ति सिंह, जिला नोडल सतिन्द्र सिवाच, एसडीएम सुभाष चंद्र सिहाग, स्टेशन डायरैक्टर बीएस गिल आदि मौजूद रहे।

अब तक 4992 यात्री हो चुके कैंट स्टेशन से रवाना

कैंट स्टेशन से 4 श्रमिक स्पेशल के माध्यम से 4992 श्रमिक गंतव्य तक भेजे जा चुके हैं। मंगलवार 1296 यात्री ट्रेन में सवार थे। इससे पहले श्रमिक स्पेशल ट्रेन 7 मई को कटिहार के लिए चलाई गई थी जिसमें 1188 श्रमिक यात्री थे। इसके बाद 8 मई को भागलपुर के लिए ट्रेन चलाई थी जिसमें 1320 यात्री थे और इसी तरह 11 मई को मुज्जफरपुर के लिए चलाई गई ट्रेन में 1188 यात्री सवार थे।
अम्बाला में आज नहीं चलेंगी बसें, ज्यादातर प्रवासियों को लेकर जाएंगी

रोडवेज डिपो अम्बाला बुधवार को बस सर्विस बहाल होने पर अभी संशय बरकरार है। चूंकि, पंजाब से अम्बाला में पहुंचने वाले प्रवासियों को उत्तर प्रदेश में रोडवेज की बसों में भरकर ले जाया जा रहा है। बुधवार को भी रोडवेज की अधिकतर बसें यूपी के लिए रवाना होंगी। इसलिए वीरवार को ही रोडवेज की बसें स्थानीय रूट पर लौट पाएंगी। मंगलवार को भी रोडवेज की अधिकतर बसें प्रवासियों को अम्बाला सिटी, कैंट, बराड़ा से कैंट रेलवे स्टेशन पर लेकर आने में लगी रही है और काफी बसें यूपी गई हैं। रोडवेज डिपो अम्बाला करनाल, कैथल और पंचकूला रूट पर बसों को चला चुका है। करनाल रूट पर रसीट बहुत कम आ रही है इसलिए यह रूट रोडवेज के लिए घाटे का सौदा साबित हो रहा है। पंचकूला के लिए अम्बाला रोडवेज की बस रूटीन में चल रही है जिसकी रसीट अब 18 से 20 यात्रियों तक पहुंच चुकी है