आशा वर्करों को कोरोना के किए कामों का इनसेंटिव मिले

  • वर्करों ने मांगों को लेकर एसएमओ को सौंपा ज्ञापन

कलानौर. आशा वर्कर और फैसिलिटेटरों ने कलानौर में मांगों को लेकर एसएमओ. डॉ. लखविंदर सिंह अठवाल की ओर से मैनेजिंग डायरेक्टर नेशनल हेल्थ मिशन के नाम ज्ञापन सौंपा गया। इस दौरान आशा वर्करों और फैसिलिटेटरों ने नारेबाजी भी की। आशा वर्करों ने बताया कि पिछले लंबे समय से सरकार और हेल्थ नेशनल मिशन (एचएनएम) की ओर से उनकी मांगों को निपटारा नहीं किया जा रहा, जिस कारण वर्करों में रोष है।
जत्थेबंदी की ओर से 28 मई को पंजाब के समूह सब सेंटरों में सरकार के विरुद्ध प्रदर्शन किए जाएंगे। इस मौके जसविंदर कौर, कुलजीत कौर पिंकी, अंजू बाला, संतोष कुमारी, कुलदीप कौर, निर्मला रानी, पूनम, शरनजीत कौर, निर्मल कौर, बलबीर कौर, दलबीरो, वीना, बलविंदर कौर, सुदेश कुमारी, जसपाल कौर आदि मौजूद थी।
ये हैं मुख्य मांगें
उन्होंने मांगों के बारे में बताया कि आशा वर्करों को कम से कम उजरत के कानून में लाया जाए, कोविड-19 का बजट जारी किया जाए और आशा वर्कर व फैसिलिटेटरों को कोरोना के किए कामों के इनसेंटिव अदा किए जाएं, आशा वर्करों के इनसेंटिवों और फैसिलिटेटरों के मान भत्ते में हर साल 20 प्रतिशत बढ़ावा किया जाए, केंद्र सरकार द्वारा फैसिलिटेटरों को दिया जा रहा टूर भत्ता 250 रुपए प्रति टूर की दर अनुसार और 50 रुपए डेली फूड भत्ते का पत्र लागू किया जाए, फैसिलिटेटरों को रिकॉर्ड रखने के 1 हजार रुपए अलग से दिए जाएं, आशा वर्करों और फैसिलिटेटरों का 5 लाख रुपए का मुफ्त बीमा लागू किया जाए, आशा वर्करों की दी जाती नाजायज छुट्टियां बंद की जाएं और निकाली गई वर्करों को बहाल किया जाए, आशा वर्करों और फैसिलिटेटरों को हर किस्म की छुट्‌टी, मेडिकल छुट्टी दी जाए, आशा वर्करों और फैसिलिटेटरों को स्मार्ट फोन और 250 रुपए मोबाइल भत्ता दिया जाए।