आरटी पीसीआर सैंपल्स की मोबाइल ऐप से ऑनलाइन मॉनिटरिंग शुरू

  • रैपिड रिस्पांस टीम को ऐप से भरना प्रोफार्मा, सिविल सर्जन कार्यालय व पीजीआई की रैपिड रिस्पांस टीम भी जुड़ सकेगी

रोहतक. आईसीएमआर के अधिकारियों ने रैपिड रिस्पांस टीमों की ओर से आरटी पीसीआर सैंपल्स की मोबाइल ऐप के जरिए भरे जाने वाले प्रोफार्मा की ऑनलाइन मॉनीटरिंग करनी शुरू कर दी है। सिविल सर्जन कार्यालय और पीजीआई की रैपिड रिस्पांस टीम के सदस्यों के अलावा चिकित्सक, लैब टेक्नीशियन और सिटीजन भी जुड़ सकेंगे। सीधे तौर पर इसका फायदा आमजन, कोरोना संदिग्ध और इन्फ्लूएंजा ग्रस्त रोगियों को मिल सकेगा। ऐसे लोगों को सैंपल रिपोर्ट के लिए विभाग के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे और न ही किसी को फोन करने की जरूरत है।

सैंपलिंग के वक्त मिलने वाली एक यूनिक आईडी के प्रयोग से रिपोर्ट मोबाइल स्क्रीन होगी। पीजीआई की रैपिड रिस्पांस टीम की सदस्य डॉ. शीबा सेठी ने रविवार को पीजीआई के 11जे हास्टल में 50 से अधिक लोगों के सैंपल का ब्योरा ऐप के जरिए प्रोफार्मा में अपलोड किया। उन्होंने बताया कि वो लगातार ऐप के जरिए ही सैंपल लिए जाने वाले लोगों का ब्योरा ऐप के जरिए अपलोड कर रही हैं।
जानिए… ऐप कैसे करेगा काम
1. सैंपल रिपोर्ट जानने के लिए स्मार्ट फोन में प्ले स्टोर से आरटी-पीसीआर ऐप डाउनलोड करना जरूरी है। हालांकि यह काम तभी करेगी जब आपने आरोग्य सेतु ऐप को डाउनलोड किया होगा। इसके बाद उक्त ऐप डाउनलोड करें। अधिकृत मोबाइल नंबर अंकित करने पर ओटीपी जारी होगा, जिसके प्रयोग से ऐप का इस्तेमाल कर सकेंगे।
2. हेल्थ टीम सैंपल लेने के बाद व्यक्ति का संपूर्ण डाटा ऐप के प्रफोर्मा में भरेगी। सैंपल देने वाले व्यक्ति को यूनिक कोड मिलेगा। 24 घंटे के भीतर वह ऐप में उक्त कोड को दर्ज करके अपनी रिपोर्ट जान सकेगा। अपलोड हुई है या नहीं, अगर हुई है तो क्या परिणाम है। बाकायदा पीडीएफ फाइल में विस्तार से डिटेल पढ़ सकेंगे।