बिजली विभाग के कर्मचारियों में उपमंडल अधिकारी के प्रति रोष

कैथल. रविवार को आल हरियाणा पावर कारपोरेशन वर्कर यूनियन संबंधित सर्व कर्मचारी संघ सब यूनिट चीका कार्यकारिणी की एक बैठक 33केवी बिजली बोर्ड चीका के प्रांगण में संपन्न हुई। बैठक की अध्यक्षता केंद्रीय कमेटी के सदस्य अभिषेक शर्मा ने की। बैठक मेें उपमंडल अधिकारी चीका के कच्चे कर्मचारियों के प्रति व्यवहार की कड़े शब्दों में निंदा की गई।
 अभिषेक शर्मा ने कहा कि कच्चे कर्मचारी कोरोना महामारी के दौरान भी पूरी मुस्तैदी के साथ अपनी जिम्मेवारी निभा रहे हैं और जनता को निर्बाध रूप से बिजली उपलब्ध करवा रहे हैं। ऐसे में उपमंडल अधिकारी का कर्तव्य बनता है कि वे इन कर्मचारियों का हौसला बढ़ाएं। लेकिन यह अधिकारी कर्मचारियों का मनोबल गिरा रहा है। अभिषेक ने कहा कि शनिवार को 33 केवी पावर हाउस पपराला पर सिर्फ एक नियमित कर्मचारी था उसे भी वहां से हटाकर दूसरे पावर हाउस में लगा दिया है। अब पपराला पावर हाउस केवल कच्चे कर्मचारी के भरोसे है। उन्होंने कहा कि पपराला सब से पुराना और ज्यादा वर्क लोड वाला पावर हाउस है। ऐसे में यहां पर नियमित कर्मचारी का रहना जरूरी है। उन्होंने कहा कि उपमंडल अधिकारी कच्चे कर्मचारियों पर दबाव बनाता है और कहना ना मानने पर नौकरी से निकालने की धमकी दी जाती है। उपमंडल अधिकारी चीका की इस कार्यप्रणाली से कर्मचारियों में भारी रोष है। अगर समय रहते उपमंडल अधिकारी ने यूनियन कार्यकारिणी को बुलाकर बातचीत के माध्यम से इन समस्याओं का समाधान नहीं किया तो मजबूरन कर्मचारियों को आंदोलन का रास्ता अपनाना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि चीका उपमंडल की सारी कार्यप्रणाली को लेकर मंगलवार को विधायक ईश्वर सिंह को एक ज्ञापन सौंपा जाएगा।