गोदामों पर लेबर की कमी से गेहूं अनलोडिंग का काम धीमा, सड़क पर लगी ट्रकों की लंबी लाइन

बहादुरगढ़. जिले में गेहूं का उठान कार्य धीमी गति से चल रहा है। इसका बड़ा कारण यह है कि गोदामों पर लेबर की कमी। इसके चलते बहुत कम अनाज गोदामों के अंदर लग पाता है। झज्जर के तलाव गोदाम के बाहर ट्रकों की लंबी कतारें लगी हैं। सड़क के दोनों ओर खड़े वाहनों से हादसे का भी खतरा बना है। तलाव गोदाम के प्रभारी का कहना है कि लेबर की व्यवस्था के लिए ठेका एजेंसी को कई बार पत्र लिखा है। इसके बावजूद व्यवस्था में कोई सुधार नहीं हो रहा। इस स्थिति के चलते 3 दिन बीतने के बावजूद मंडी से गेहूं लेकर आने वाली गाड़ियां खाली नहीं हो पा रही हैं। वहीं, जिला प्रशासन का कहना है कि जिले की अनाज मंडियों व खरीद केंद्रों पर अब तक 165562 मीट्रिक टन गेहूं व 47049 मीट्रिक टन सरसों की खरीद हो चुकी है। डीसी जितेंद्र कुमार के निर्देशानुसार कोविड-19 से बचाव के साथ ही लॉकडाउन के नियमों का पालन प्रभावी ढंग से किया जा रहा है। डीसी ने कहा कि कोरोना महामारी से बचाव के लिए मंडी में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराया जा रहा है। इस संबंध में संबंधित अधिकारी को दिशा-निर्देश दिए गए हैं। नियमों का पालन नहीं करने पर कार्रवाई करें।

जिले में 165562 मीट्रिक टन गेहूं की खरीद
जिला खाद्य एवं पूर्ति नियंत्रक कुशलपाल बूरा ने बताया कि शनिवार देर शाम तक झज्जर जिले के खरीद केंद्रों पर कुल 165562 मीट्रिक टन गेहूं व 47049 मीट्रिक टन सरसों की खरीद हुई है। गेहूं फसल की खरीद प्रक्रिया में झज्जर अनाज मंडी में 23183 मीट्रिक टन, कबलाना में 4760 मीट्रिक टन, भदाना में 3138 मीट्रिक टन, बादली में 4074 मीट्रिक टन, मुनीमपुर में 3105 मीट्रिक टन, ढाकला में 3607 मीट्रिक टन, अंबोली में 2099 मीट्रिक टन, तूंबाहेड़ी में 1056 मीट्रिक टन, सुबाना में 10746 मीट्रिक टन, पाटौदा में 3328 मीट्रिक टन, बेरी अनाज मंडी में 28948 मीट्रिक टन, डीघल में 1592 मीट्रिक टन, बरहाना में 1642 मीट्रिक टन, शेरिया में 516 मीट्रिक टन, पलड़ा में 3932 मीट्रिक टन, मातनहेल अनाज मंडी में 12366 मीट्रिक टन, अकहेड़ी मदनपुर में 4373 मीट्रिक टन, बिरहोड़ में 4013 मीट्रिक टन, खानपुर में 2404 मीट्रिक टन, लडायन में 4175 मीट्रिक टन, माजरा डी में 15884 मीट्रिक टन, दूबलधन मे 5211 मीट्रिक टन, छारा में 6329 मीट्रिक टन, मांडौठी में 3166 मीट्रिक टन, बहादुरगढ़ अनाज मंडी में 768 मीट्रिक टन, गंगडवा में 1861 मीट्रिक टन, कानौंदा में 2634 मीट्रिक टन, जसौर खेड़ी में 2399, बहादुरगढ़ आॅटो मार्केट सेक्टर-12 में 975 मीट्रिक टन, आसौदा में 3278 मीट्रिक टन गेहूं की खरीद हो चुकी। साथ ही उठान प्रभावी ढंग से जारी है।
लेबर व ट्रांसपोर्ट का ठेका अलग: ट्रक संचालक जयभगवान, करन सिंह, संजय अादि का कहना है कि खरीफ सीजन के लिए लेबर व ट्रांसपोर्टेशन का अलग-अलग ठेका छोड़ा जाता है। इस बार तलाव गांव के गोदाम पर लेबर का ठेका अलग एजेंसी को है। लॉकडाउन में लेबर नहीं मिलना। यहां का नया अनुभव होने के कारण अनलोडिंग की व्यवस्था पटरी पर नहीं आ पा रही है। मंडी से गेहूं का उठान कम हो रहा है। गोदाम में जगह होने के बावजूद सभी प्वाइंटों पर ट्रक नहीं लग पा रहे हैं।
^तलाव गोदाम पर लेबर का ठेका जसवीर कंपनी को है, लेकिन यहां मस्टर्ड के लिए डेड पॉइंट और गेहूं का 1 पॉइंट चल रहा है। संबंधित एजेंसी को लेबर बढ़ाने के लिए कई बार अनुरोध किया जा चुका है, लेकिन इस दिशा में कोई सुधार नहीं है। सड़कों पर जो वाहनों की लाइनें लगी है, उसका बड़ा कारण भी यही है। यदि ठेका कंपनी इस मामले में उचित कार्रवाई नहीं करती है। तब एजेंसी के खिलाफ सीनियर अधिकारियों को लिखा जाएगा।
-राजेश डबास, गोदाम प्रभारी तलाव।
47049 मीट्रिक टन सरसों की हुई खरीद
जिला खाद्य एवं पूर्ति नियंत्रक बूरा ने बताया कि सरसों फसल की खरीद शनिवार देर शाम तक झज्जर जिले में 16831 किसानों से कुल 47049 मीट्रिक टन की हुई है। अनाज मंडी झज्जर में अब तक 3175 किसानों से 8715 मीट्रिक टन, बेरी अनाज मंडी में 1830 किसानों से 4752 मीट्रिक टन, ढाकला खरीद केंद्र पर 2188 किसानों से 6473 मीट्रिक टन, मातनहेल में 3733 किसानों से 10512 मीट्रिक टन, बहादुरगढ़ अनाज मंडी में 1041 किसानों से 2263 मीट्रिक टन, लडायन खरीद केंद्र पर 1388 किसानों से 4282 मीट्रिक टन, बिरहोड़ में 1214 किसानों से 3635 मीट्रिक टन, पाटौदा में 993 किसानों से 2832 मीट्रिक टन व बादली मेंं अब तक 1269 किसानों से 3585 मीट्रिक टन सरसों की खरीद की गई है।