गेहूं बेचने के बाद किसानों को नहीं मिल रही पेमेंट

  • एजेंसियों का दावा-पांच मई तक की खरीद का किया भुगतान, आढ़ती बोले-पेमेंट नहीं मिली

कैथल. इस सीजन में जहां किसानों को गेहूं बेचने में परेशानी उठानी पड़ी वहीं अब पेमेंट के लिए भटक रहे हैं। आढ़तियों का जवाब होता है कि पेमेंट आपके खाते में आएगी, लेकिन बार बार खाता चैक करने पर भी कोई पैसा नहीं मिल रहा। इसको लेकर किसानों ने मार्केट कमेटी कार्यालय में आकर अपनी व्यथा सुनाई। वहीं खरीद एजेंसियों का दावा है कि उन्होंने पांच मई तक खरीदे गए गेहूं की पेमेंट का भुगतान कर दिया है, जबकि आढ़ती व किसानों का कहना है कि अभी तक उनके खाते में पैसे नहीं आए हैं। आढ़ती प्रवीण कुमार, विनोद कुमार, रामनिवास आदि का कहना है कि उनके पास रोजाना किसान पेमेंट के लिए आ रहे हैं, लेकिन एजेंसियों ने अभी भुगतान नहीं किया है। वहीं किसान गुरजीत सिंह, रामप्रसाद, सुरजीत सिंह का कहना है कि उन्हें 15 दिन बाद भी पेमेंट नहीं मिली है। विदित रहे, पांच मई तक जिला की मंडियों में 5 लाख 28 हजार 275 एमटी गेहूं की आवक हुई थी।
जिला की विभिन्न मंडियों तथा खरीद केन्द्रों में गत शनिवार तक 6 लाख 38 हजार 330 मीट्रिक टन गेहूं की खरीद की गई है। शनिवार को जिला में 3 हजार 704 मीट्रिक टन गेहूं की आवक दर्ज की गई। डीसी सुजान सिंह ने बताया कि गेहूं की कुल खरीद में से खाद्य एवं आपूर्ति विभाग द्वारा 2 लाख 34 हजार 945 मीट्रिक टन, हैफेड द्वारा 2 लाख 53 हजार 45 मीट्रिक टन, एफसीआई द्वारा 84 हजार 296 मीट्रिक टन, हरियाणा वेयर हाउस द्वारा 66 हजार 44 मीट्रिक टनगेहूं की खरीद गई है।