गांवों के लिए सप्लाई चेन का काम करेंगे सीएससी संचालक, गांवों के लिए होम डिलीवरी की सुविधा देने के लिए शुरू की गई ग्रामीण ई-स्टोर एप सर्विस

रेवाड़ी. लॉकडाउन की अवधि में गांवों में आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई करने के लिए इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्रालय के द्वारा ग्रामीण ई स्टोर एप लांच किया गया है।
इसकी मदद से जिले की सभी अटल सेवा केंद्र (सीएससी) अपना रजिस्ट्रेशन करवा वीएलई के माध्यम से लोगांे को आवश्यक सामान उपलब्ध करवाएंगे। होम डिलीवरी की सुविधा लेने के लिए लोगों को अपने नजदीकी सीएससी सेंटर काे चुनना होगा। इस एप से वीएलई 2 से 15 किलोमीटर की दूरी तक ऑर्डर किए गए सामान को पहुंचा सकेगा। बता दें कि सीएससी भारत सरकार के इलेक्ट्रॉनिक्स एवं आईटी मंत्रालय के अधीन कार्य करता है।
सीएससी सेंटर के वीएलई को तीन एप दी गई है। बिजनेस एप, ऑर्डर एप व कस्टमर एप मिलेगी। बिजनेस एप में सीएससी सेंटर के वीएलई को विभाग फाॅर्म भरवाकर रजिस्ट्रेशन करवा रहा है। रजिस्ट्रेशन होने के बाद ई स्टोर पर उसकी लॉगिन आईडी बन जाएगी। उसके बाद वीएलई अपने फोन में बिजनेस एप को डाउनलोड करने के बाद उस पर कार्य कर सकेगा। वीएलई एप में अपने अनुसार खाद्य व अन्य जरुरी चीजों के प्रोडक्ट रेट के साथ डाल सकता है। कस्टमर एप के बारे में सीएससी वीएलई को बताना होगा।
ग्रामीण ई-स्टोर एप ऑनलाइन आर्डर कर फायदा उठा सकते हैं: डीएम
ग्रामीण ई स्टोर एप पर सीएससी के वीएलई को आवश्यक वस्तुओं का ऑर्डर कर अपने घर पर ही होम डिलीवरी करा सकते हैं। एप पर सामान की रेट लिस्ट भी दिखाई जाएगी, जिससे उपभोक्ता को ऑर्डर करने में परेशानी नहीं होगी। अभी जिले में फिलहाल 100 वीएलई ने पंजीकरण करवाने के साथ करीब 60 वीएलई ने ऑर्डर लेने भी शुरु कर दिए है। जगदीप कुमार, जिला प्रबंधक, सीएससी, रेवाड़ी।

ऐसे काम करेगा एप
यह एप हर स्मार्टफोन में गूगल प्ले स्टोर पर उपलब्ध होगा। ग्रामीण ई स्टोर से मुख्य रुप से किरयाणा सामान के अलावा अन्य जरुरी सामान के ऑर्डर हो पाएंगे। ग्रामीणों के आर्डर के अनुसार माल मांगने और उसे उनके घर तक पहुंचाने की जिम्मेवारी वीएलई की होगी। एप पर सभी सामान की कीमत को भी दिखाया जाएगा।
100 वीएलई ने कराया पंजीकरण:जिले में करीब 350 सीएससी सेंटर शहरी व ग्रामीण क्षेत्र में चल रहे है। जिन पर लोगों की सुविधा के अनुसार प्रतिदिन कार्य किया जाते हैं। ग्रामीण ई स्टोर एप के लिए 100 वीएलई ने अपना पंजीकरण करवाया है, जिसमें करीब 60 लोगों ने ऑर्डर भी लेने शुरु कर दिए है।