अमरुत योजना में 28 करोड़ से लगने थे 39 ट्यूबवेल, यह प्रोजेक्ट तीसरे सीजन में भी अधूरा

  • कई बोर कर छोड़े तो कहीं नहीं मिले बिजली कनेक्शन

यमुनानगर. शहर की कई कॉलोनियों में पेयजल लाइन न होने से हैंडपंपों या सबमर्सिबल पंप से काम चल रहा है। वहीं, कई जगह ट्यूबवेल दूर होने से लो-प्रेशर पानी की सप्लाई आ रही है। कुछ के सप्लाई लाइन में मोटर लगा देने से बाकियों का पानी नहीं मिल पाता हालांकि ऐसी 39 जगह चिह्नित कर नगर निगम ने अमरुत याेजना के तहत 28 करोड़ से 39 जगह ट्यूबवेल लगाने का प्रोजेक्ट बनाया। लेकिन गर्मी के तीसरे सीजन में भी काम अधूरा है। कई ट्यूबवेलों की जगह महज बोर कर छोड़ दिए गए हैं तो कहीं बिजली कनेक्शन न मिल पाने से लगे ट्यूबवेल बंद पड़े हैं।
 जबकि गर्मी सीजन आते ही पानी की डिमांड बढ़ने के साथ कॉलोनियों में लो प्रेशर सप्लाई की दिक्कत भी बढ़ने लगी है। अमरुत के तहत ढाई साल पहले 95 किलोमीटर पेयजल लाइन डाल 39 जगह ट्यूबवेल लगाने के प्रोजेक्ट पर काम शुरू हुआ। 28 करोड़ के यह काम एक ही फर्म के पास होने से अभी तक पूरा नहीं हो पाया है। जबकि यह काम मार्च-2020 में खत्म होना था। तय समय पर काम पूरा ना होने पर गर्मी के साथ बढ़ती पानी की डिमांड में इन जगहों पर पेजयल किल्लत व लो-प्रेशर सप्लाई की दिक्कत है। लेकिन प्रोजेक्ट के तहत 39 ट्यूबवेलों में ज्यादातर की जगह बोर, चैंबर व कमरे तैयार हो पाए तो कई तैयार ट्यूबवेलों को बिजली कनेक्शन नहीं मिल पाए हैं। नगर निगम एक्सईएन आनंद स्वरूप का कहना है कि सभी 39 ट्यूबवेल के लिए बोर हो चुके हैं। 31 में मोटर पंप डल चुके हैं और बचे आठ में डल रहे हैं। 30 के लिए बिजली कनेक्शन मिलने पर आठ ट्यूबवेल चालू कर दिए हैं और सात तीन दिन के अंदर चालू कर देंगे।
वार्ड में लगने थे पांच ट्यूबवेल, एक भी चालू नहीं: निर्मल चौहान
वार्ड-13 से पार्षद निर्मल चौहान ने कहा कि 39 ट्यूबवेलों का काम गर्मी के तीसरे सीजन भी पूरा नहीं हो पाया है। वार्ड में पांच जगह ट्यूबवेल लगने थे, एक का भी काम पूरा नहीं हो पाया है। बोर व चैंबर से आगे काम नहीं बढ़ पाया। जिससे एरिया के लोगों इस बार भी गर्मी में पेजयल दिक्कत का सामना करना पड़ेगा।
डेढ़ लाख आबादी को मिलता पेयजल
कुंडी तालाब, न्यू जैन नगर, सरोजनी कॉलोनी के पार्क व गाबा अस्पताल के समीप, दशहरा ग्राउंड व चड्ढा अस्पताल के सामने और बस स्टैंड के समीप ग्रीन बेल्ट, इंप्रूवमेंट ट्रस्ट कार्यालय के समीप व जिंदल पार्क के अंदर व बाहर पास में और एमसी स्टोर में, खड्डा कॉलोनी, गधौली में, तेजली स्टेडियम के सामने, कीर्ति नगर में, ताजकपुर (बाडीमाजरा), बाडीमाजरा में एसटीपी के समीम, आंगनबाड़ी केंद्र (बाडीमाजरा) के पास, दौलतपुर में, खजूरी रोड पर कामीमाजरा, पांसरा, हमीदा स्कूल के समीप, शुगर मिल, यमुनानगर पीडब्ल्यूडी रेस्ट हाउस के पीछे, चिल्ड्रन गार्डन कैंप, जम्मू कॉलोनी, पीएचईडी एसटीपी, एचपीजीसीएल कॉलोनी में, रेलवे ओवरब्रिज के समीप, गांव ममीदी में जोहड़ समीप, ममीदी में ही कम्युनिटी सेंटर समीप, जैन कॉलोनी व यहीं ब्रिक किलम, एचपीजीसीएस कॉलोनी में जोडिय़ों नाका समीप, महाराणा प्रताप पार्क, चिट्‌टा मंदिर समीप हनुमान कॉलोनी, दड़वा में अंबेडकर पार्क समीप और सिविल अस्पताल में ट्यूबवेल लगने हैं। इन क्षेत्रों में पानी के लिए पेयजल लाइन है नहीं या ट्यूबवेल दूरी पर होने से पानी लो-प्रेशर आता है। ऐसे में यहां ट्यूबवेल लगाने से डेढ़ लाख की आबादी को फायदा होना था, लेकिन उनकी पेयजल समस्या जस की तस है।